SINGRAULI : महान नदी में डूबने से दो सगे भाईयों की मौत

लामीदह गांव की घटना, दोनों शव बरामद, परिवार में छाया मातम, घटना स्थल पर पहुंची पुलिस

सिंगरौली 17 जुलाई। नगाड़े के साथ गाते-हंसते खेलते हुए दर्जनों महिलाएं व बच्चे छठी उत्सव मनाते हुए महान नदी में पहुंची। लेकिन भगवान को यह खुशी मंजूर नहीं था और कुछ पल में ही देखते ही देखते दो बच्चे महान नदी के गहरे पानी में समा गये। दोनों सगे भाईयों की अकाल मौत से पूरा हंसी-खुशी का माहौल गम में तब्दील हो गया। यह घटना सरई थाना क्षेत्र के पुलिस चौकी तिनगुड़ी अंतर्गत लामीदह गांव की है। जहां दो सगे भाई अपने नैनिहाल छठी कार्यक्रम में मॉ-पिता के साथ शरीक होने गये हुए थे। शुक्रवार की शाम नदी के पानी में डूबने से मौत हो गयी।

घटना के संबंध में सरई टीआई संतोष तिवारी से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम खटखरी चौकी खुटार के निवासी जितेन्द्र बसोर अपने बाल-बच्चों के साथ ससुराल लामीदह गया था। उसके ससुराल में आज छठी कार्यक्रम था। जहां इस कार्यक्रम में शामिल होने गये हुए थे। शुक्रवार की शाम जितेन्द्र बसोर के ससुराल पक्ष व पत्नी तथा बच्चे गांव के समीप महान नदी में छठी कार्यक्रम के बाद नहाने गये हुए थे इसी दौरान जितेन्द्र बसोर के 12 वर्षीय पुत्र अर्जुन बसोर व करण बसोर 11 वर्ष गहरे पानी में समा गये।

जब तक आस-पास के लोग दोनों बच्चों को बचाने के लिए नदी में छलांग लगाते तब तक में दोनों गहरे पानी में समा चुके थे। घटना स्थल पर मौजूद ग्रामीणों ने बच्चों को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किया। लेकिन उन्हें सफलता हाथ नहीं लगी। इस घटना के बाद गांव में मातम पसर गया है। वहीं घटना की जानकारी तिनगुड़ी पुलिस को दी गयी। मौके पर चौकी प्रभारी मुकेश झारिया स्थल पहुंच शव को अपने कब्जे में ले लिया है।

जितेन्द्र के बुझ गये दोनों चिराग, छाया मातम

नैनिहाल गये अर्जुन बसोर एवं करण बसोर के पानी में डूबने से हुई अकाल मौत पर पूरा गांव सदमे में है। वहीं बताया जा रहा है कि जितेन्द्र के दो पुत्र व एक पुत्री है। जहां आज दोनों चिराग बुझ गये। वहीं जितेन्द्र की पत्नी, नाना,नानी व उसका पूरा परिवार बदहवास हालत में है। उत्सव का कार्यक्रम गम में डूब गया है।

इनका कहना है
लामीदह गांव के महान नदी में दो बालकों की गहरे पानी में डूबने से मौत हो गयी। पुलिस मर्ग कायम कर विवेचना कर रही है।
संतोष तिवारी
टीआई, थाना सरई

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button