singrauli बिना सूचना के गायब है चिकित्सक, हो सकती है बड़ी कार्यवाही

सिंगरौली 2 अक्टूबर। बिना सूचना के एक पखवाड़े से अधिक दिनों तक नदारत रहने वाले संविदा चिकित्सक डॉ.यशवंत सिंह को सीएमएचओ सेवा समाप्ति करने का नोटिस भेजा है।

गौरतलब हो कि चितरंगी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में पदस्थ एनेस्थिसिया प्रशिक्षित संविदा चिकित्सक डॉ.यशवंत सिंह की पदस्थापना वर्ष 2019 नवम्बर महीने में भोपाल से किया गया था। किन्तु करीब 3 साल तक संविदा चिकित्सक जिला चिकित्सालय आने से परहेज कर रहा था और उसका मोहमाया चितरंगी से नहीं छूट रहा है। प्रमुख सचिव लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग भोपाल के सख्त निर्देश के बाद 5 अगस्त को तत्कालीन सीएमएचओ डॉ.आरपी पटेल ने चितरंगी सीएचसी से एकतरफा कार्यमुक्त कर दिया था। इसके बावजूद संविदा चिकित्सक सीएमएचओ के आदेश को नहीं माना, अंतत: 4 सितम्बर को मौजूदा सीएमएचओ डॉ.एनके जैन ने चितरंगी बीएमओ को निर्देश देते हुए चिकित्सक को भारमुक्त करने का पत्र जारी किया।

ये भी पढ़े राहुल गांधी के साथ झड़प झाड़ियों में गिरे, सुरक्षाकर्मियों ने उठाया

इसी तरह बीएमओ ने भी 8 सितम्बर को चिकित्सक डॉ.यशवंत सिंह को जिला चिकित्सालय के लिए कार्यमुक्त तो कर दिया, लेकिन इसकी सूचना बीएमओ ने 11 सितम्बर तक किसी वरिष्ठ अधिकारियों को नहीं दिया और जब सीएमएचओ ने 12 सितम्बर को बीएमओ को पत्र जारी कर चिकित्सक को कार्यमुक्त करने का कारण पूछा तो आनन-फानन में वे 8 सितम्बर के पत्र को भेजना शुरू कर दिया। करीब 4 दिनों तक बीएमओ उक्त पत्र को क्यों दबाकर बैठा था यह बात धीरे-धीरे खुलकर सामने आने लगी है। बीएमओ की मंशा शुरू से रही है कि संविदा चिकित्सक कार्यमुक्त न हो और ओपीडी, एमएलसी देखते रहें। एमएलसी बनाने में कितनी सौदेबाजी हो रही है यह बात किसी से छुपी नही है।

ये भी पढ़े SINGRAULI : जिले में एक भी नहीं है विशेषज्ञ चिकित्सक, भगवान भरोसे है प्राथमिक एवं उप स्वास्थ्य केन्द्र

इधर 8 सितम्बर के बाद बीएमओ के द्वारा कार्यमुक्त किये जाने के बाद से संविदा चिकित्सक डॉ.यशवंत सिंह गायब हो गये थे और पिछले दिनों चितरंगी में फिर से प्रकट हो गये। इसकी जानकारी होने पर सीएमएचओ ने 30 सितम्बर को संविदा चिकित्सक को नोटिस जारी कर कहा है कि सीएमएचओ व बीएमओ के द्वारा कार्यमुक्त किये जाने के बावजूद जिला चिकित्सालय बैढऩ में अपनी उपस्थिति नहीं दिये चिकित्सक का यह कृत्य अनुशासनहीनता की श्रेणी में आता है। चिकित्सक अनाधिकृत अनुपस्थित होने के कारण संविदा सेवा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मानव संसाधन मैन्युअल वर्ष 2002 एवं 2005 के अंतर्गत चिकित्सक के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी। सीएमएचओ के इस पत्राचार के बाद हड़कम्प मचा हुआ है।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button