Sidhi News: ये हैं सीधी के दशरथ मांझी, पत्नी की परेशानी देखी नहीं गयी, खोदा 40 फीट गहरा कुआं

Sidhi News: आजादी के बाद, हरि ने अपने परिवार की प्यास बुझाने के लिए अपने नंगे हाथों से पत्थर तोड़ने के लिए 40 फुट गहरा कुआं खोदा। यह काम इतना आसान नहीं था। लेकिन 40 वर्षीय हरि सिंह की लगन और लगन ने इस असंभव को संभव कर दिखाया है। उनके परिवार ने भी उनकी काफी मदद की। करीब 1 साल की मेहनत के बाद अमृत धारा मिली। उन्हें अब और पानी मिलने की उम्मीद है। इसलिए अभी भी कुआं खोदने का काम जारी है।

Sidhi News: ये हैं सीधी के दशरथ मांझी, पत्नी की परेशानी देखी नहीं गयी, खोदा 40 फीट गहरा कुआं
photo by google

Sidhi News:

यह हरि सिंह सीधी जिले के सिहाबल जिले के बरवंधा में रहते हैं। उन्हें वन अधिकार अधिनियम के तहत मैदान पहाड़ का पट्टा मिला है। वह अपनी पत्नी, दो बेटों, एक बेटी और एक भतीजे के साथ पहाड़ियों में रहता है। परिवार को पानी लाने के लिए पहाड़ी से 500 मीटर नीचे एक बस्ती में एक हैंडपंप पर जाना पड़ा। अगर हैंडपंप खराब हो जाता है या सूख जाता है, तो अगले 5 किमी तक कहीं पानी नहीं है। हरि सिंह के सामने सबसे बड़ा जल संकट था।

Sidhi News: ये हैं सीधी के दशरथ मांझी, पत्नी की परेशानी देखी नहीं गयी, खोदा 40 फीट गहरा कुआं
photo by google

Sidhi News:

पेयजल की व्यवस्था के लिए हरि सिंह ने ग्राम पंचायत के सभी प्रशासनिक अधिकारियों व क्षेत्रीय विधायकों से अपील की. जब कोई सुनवाई कहीं नहीं हुई उसने आखिरकार पहाड़ों में एक कुआं खोदने का फैसला किया। मैंने अपने परिवार को बताया तो सब तैयार थे।

Sidhi News: ये हैं सीधी के दशरथ मांझी, पत्नी की परेशानी देखी नहीं गयी, खोदा 40 फीट गहरा कुआं
photo by google

इसे भी पढ़े-Ekta Kapoor से पंगा लेना इन सितारों को पड़ा था महंगा, उड़ गए थे होश

Sidhi News:

उनकी पत्नी, बेटा, बेटी, भतीजा सभी इस अभियान में शामिल हुए. 1 साल की मेहनत झलकती है। अब कुएं में अमृत की धारा दिखाई दे रही है। ग्रामीणों ने आगे कहा कि बड़ी चट्टान होने के बावजूद हरि ने हार नहीं मानी। उसने एक चट्टान को तोड़ा और एक कुआं खोदा। पानी मिल गया है, अब आस है।

इसे भी पढ़े-Singrauli News : यूपी के हिस्ट्रीशीटरों व बदमाशों पर पुलिस रखे निगरानी: हिमाली

हरि सिंह की एक साल की मेहनत सफल रही। लेकिन अभी तक उन्हें सरकार की ओर से कोई मदद नहीं मिली है. जबकि सरकार की ओर से इसका प्रावधान है.

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button