चोरी की बिजली से रौशन थे PM आवास, 24 लोगो पर मामला दर्ज

एक साथ बिजली चोरी पकडऩे के लिए छापामार कार्यवाही की गई। इसमें 162 कनेक्शनों की जांच करते हुए 24 बिजली चोरी के प्रकरण बनाए गए। रहवासियों ने बताया कि नगर निगम द्वारा उन्हें घर दिए जाने के बाद वहां प्रोजेक्ट के संविदाकार द्वारा पैसे लेकर बिजली के कनेक्शन जोड़े गये हैं एवं प्रतिमाह पैसे ले रहे हैं

सिंगरौली 14 अक्टूबर। बिजली चोरी को रोकने के लिए एमपीईबी कार्यपालन अभियंता शहरी क्षेत्र ने विशेष अभियान चला रखा है। जहां सबसे बड़ी चोरी प्रधानमंत्री आवास गनियारी में पकड़ी गयी है। 162 कनेक्शन में से 3 ब्लाकों में 24 बिजली कनेक्शन अवैध पाये गये हैं। एमपीईबी टीम ने ऐसे बिजली चोरी करने वाले उपभोक्ताओं के विरूद्ध प्रकरण पंजीबद्ध किया है। एमपीईबी अमले की इस कार्रवाई से बिजली चोरी करने वाले आरोपियों में हड़कम्प मच गया है।

एमपीईबी शहरी क्षेत्र के कार्यपालन अभियंता अजीत सिंह बघेल के अनुसार प्रधानमंत्री आवास गनियारी में कुछ समय से रह वासियों के द्वारा की जा रही बिजली चोरी की शिकायत विद्युत विभाग को प्राप्त हो रही थी जिसे कार्यपालन अभियंता शहर द्वारा सहायक अभियंता के नेतृत्व में 4 टीमों का गठन कर एक साथ बिजली चोरी पकडऩे के लिए छापामार कार्यवाही की गई। इसमें 162 कनेक्शनों की जांच करते हुए 24 बिजली चोरी के प्रकरण बनाए गए। रहवासियों ने बताया कि नगर निगम द्वारा उन्हें घर दिए जाने के बाद वहां प्रोजेक्ट के संविदाकार द्वारा पैसे लेकर बिजली के कनेक्शन जोड़े गये हैं एवं प्रतिमाह पैसे ले रहे हैं। विद्युत विभाग की टीम द्वारा उन सभी परिसरों की जांच करते हुए बिजली चोरी के प्रकरण बनाए गए हैं जहां विद्युत विभाग से कनेक्शन नहीं लिए गए थे।

दिनभर चली छापामार कार्रवाई में 3 ब्लॉक के मल्टी कनेक्शनों की जांच की गई। जिसमें कुल 162 कनेक्शनों में से 24 कनेक्शन में बिजली चोरी पाई गई। रहवासियों से अपील की गई है कि जल्द से जल्द बिजली कनेक्शन ले उसके बाद ही बिजली का उपयोग करें। बिजली चोरी के उपरोक्त प्रकरणों में नगर निगम के ठेकेदार को भी बिजली चोरी कराने के लिए सह अभियुक्त बनाया जा रहा है

रैगाव उपचुनाव : भाजपा के बागियों ने आंखों में आंसू लेकर वापस लिया नामांकन

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button