NTPC की पटरी पर दो ट्रेन टकराई, चालक समेत तीन की मौत

सिंगरौली जिले में एक बड़ा ट्रेन हादसा हो गया जिसमें एक लोको पायलट और सहायक लोको पायलट समेत तीन लोगों की मौत हो गई और इस हादसे की वजह से ntpc को करोड़ों का नुकसान हुआ है हादसे के बाद मृतक के परिजनों को ₹25000 की तत्काल एक मदद के साथ ₹100000 रुपये का मुआबजा और परिवार की एक आश्रित सदस्य को नौकरी देने का ntpc ने एलान किया है इसके अलावा हादसे की उच्च स्तरीय जांच शुरु कर दी गई है
ट्रेन हादसे की यह भयावह तस्वीर देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि हादसा कितना जबरदस्त हुआ होगा ट्रेन के परखच्चे उड़े हुए हैं इंजन पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुका है और उसके टुकड़े जहां-तहां बिखरे हुए हैं नजारा मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले का है जहां पर एनसीएल कोयला खदान अम्लोरी से एक मालगाड़ी कोयला लोड कर छत्तीसगढ़ के बृजपुर स्थित एनटीपीसी पावर प्लांट को जा रही थी वहीं दूसरी ट्रेन बृजपुर से कोयला खाली कर सिंगरौली जिले के अम्लोरी कोयला खदान की तरफ आ रही थी इसी दौरान बैढ़न थाना क्षेत्र के गनियारी इलाके में दोनों ट्रेनें आपस में टकरा गई जिसकी वजह से ट्रेन के परखच्चे उड़ गए घटना के बारे में जानकार बताते हैं कि यह डबल ट्रैक रेल लाइन है पर सिग्नल कंट्रोल करने वाले कर्मचारियों की लापरवाही की वजह से हादसा हुआ और दोनों ट्रेनें एक ही ट्रैक पर आ गई प्रत्यक्षदर्शियों और स्थानीय लोगों का आरोप है कि पहले तो एनटीपीसी कि इस रेल लाइन पर लापरवाही की गई वही रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू करने में भी कई घंटे का वक्त लग गया अगर समय रहते रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू करवा दिया जाता तो हो सकता है कि ट्रेन में सवार चालक और परिचालकों की जान बचाई जा सकती थीवही इस हादसे के बाद लोगों का वहां जमावड़ा हो गया एनटीपीसी के अधिकारी कर्मचारी सीआईएसएफ के जवान स्थानीय पुलिस के साथ प्रशासन मौके पर पहुंचा और बड़ी मशीनों के द्वारा रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू करवाया गया इस रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान ट्रेन के इंजन में फंसे लोको पायलट और सहायक परिचालक सहित तीन लोगों के शव निकाले गए इस दौरान मृतक के परिजनों ने हंगामा भी कर दिया और उनकी मांग थी कि पहले एनटीपीसी आर्थिक सहायता दें और दोषी अधिकारियों पर सख्त कार्यवाही करें तभी शव को घटनास्थल से हटाने दिया जाएगा हालांकि प्रशासन ने एनटीपीसी प्रबंधन से बात कर मृतक के परिजनों को ₹25000 की आर्थिक सहायता तुरंत और ₹100000 के मुआवजे का ऐलान किया है साथ ही इस मामले पर एक उच्चस्तरीय जांच का भी भरोसा दिलाया गया है कि इसमें किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा वही इस हादसे ने एनटीपीसी की कार्यशैली पर सवाल भी खड़े किए हैं 22 किलोमीटर लंबे इस रेलवे ट्रैक पर जिसमें 2 रेलगाड़ियों की गुजरने की व्यवस्था थी तो भला ऐसी क्या जल्दी थी कि एक ही रेलवे ट्रैक पर दोनों ट्रेनों को जाने दिया गया जिसकी वजह से पुरा हादसा हुआ हालांकि जांच के बाद यह स्पष्ट हो जाएगा कि इसमें किसकी लापरवाही है

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button