covid -19 वार्ड में भर्ती सिंगरौली के युवक की मौत

सतना : जिला अस्पताल सतना में covid 19 के मरीजों के इलाज के लिए बनाये गए इंफेकशियस डिजीज वार्ड में भर्ती किये गए एक युवक की बुधवार की शाम मौत हो गई है। उसे भी रीवा मेडिकल कॉलेज रेफर किया जा रहा था लेकिन रास्ते मे उसने दम तोड़ दिया लिहाजा शव को जिला अस्पताल की मरचुरी में रखवा दिया गया है। हालांकि अभी मौत की वजह स्पष्ट नही है लेकिन हालातों के मद्देनजर महामारी की आशंका से भी इंकार नही किया जा सकता ।

दोपहर में किया गया था आइसोलेशन वार्ड में भर्ती

सूत्रों से हासिल जानकारी के अनुसार सतना जिले और शहर में लगातार बेरोक टोक जारी देश भर से लोगों की आवक के बीच बुधवार को सूरत से आये और सिंगरौली जा रहे तीन युवकों को जिला अस्पताल जांच के लिए ले जाया गया था। इनमे से दो युवकों के सेम्पल लिए गए और उन्हें ट्रामा यूनिट में covid 19 पेशेंट के इलाज के लिए बनाए गए स्पेशल आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया गया। इनमे से एक युवक सुंदर सिंह उम्र लगभग 25 वर्ष की हालत कुछ ज्यादा ही खराब थी। दोपहर एक बजे के आसपास सेम्पल लिए जाने के बाद उसका इलाज शुरू किया गया लेकिन उसकी हालत और बिगड़ती ही गई लिहाजा शाम लगभग 6 बजे उसे एम्बुलेंस से रीवा मेडिकल कालेज भेज दिया गया। लेकिन इससे पहले कि वह रीवा पहुंच पाता ,माधवगढ़ के पास ही उसके जीवन का सफर थम गया,उसने दम तोड़ दिया। एम्बुलेंस वापस जिला अस्पताल ले आई गई और शव को मरचुरी में रखवा दिया गया। इस पूरे मामले में गोपनीयता का खास ख्याल भी रखा गया।

सूरत से आया यह युवक बेहद नाजुक हालत में अस्पताल में भर्ती किया गया था । उसकी तकलीफ बढ़ती ही जा रही थी और यहां अस्पताल में covid 19 जैसी बीमारी के इलाज के लिए बने आइसोलेशन वार्ड में मौजूद मेडिकल स्टाफ उसके शरीर को प्रयोगशाला बनाये हुए था। उसका कोरोना सेम्पल भी लिया गया था । सवाल यह उठ रहा है कि क्या वह युवक कोरोना संक्रमित था और उसी वायरस ने उसकी जान ली या फिर भूख अथवा किसी और कारण से उसकी मौत हो गई ? प्रश्न यह भी है कि अगर कोरोना का संदेह नही था तो उसे इंफेकशियस डिजीज वार्ड में क्यों रखा गया था ?L

सूत्र बताते हैं कि उसकी हालत जैसी थी और मौत के बाद जैसी गोपनीयता बरती गई उससे कोरोना संक्रमण की आशंका से भी इंकार नही किया जा सकता। हालांकि इसे तब तक पुष्ट भी नही माना जा सकता जब तक कि कोरोना सेम्पल की जांच रिपोर्ट नही आ जाती।

अब युवक का शव मरचुरी में रखा है और उसके कुछ साथी अस्पताल परिसर में भी मौजूद उसकी लाश पर निर्णय होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। लेकिन यह निर्णय तब तक नही हो सकता जब तक कोरोना जांच की रिपोर्ट नही आ जाती। बताया जाता है कि सोहावल मोड़ के पास जब इन 9 लोगो को रोका गया था तब युवक की तबियत खराब थी। उसके 6 साथी गायब हो गए थे लेकिन जो तीन रह गए थे उनकी जांच की गई थी।

AAD

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button