वन विभाग में बड़ा घोटाला! पूंजीपति श्रमिको के खाते में राशि ट्रांसफर

सिंगरौली 29 अगस्त। जिले के डीएमएफ फण्ड का दुरूपयोग व राशि की बंदरबांट शुरू हो गयी है। जिसका जीता जागता उदाहरण व राशि की गोलमाल किये जाने का सनसनी खेज मामला मोरवा बीट क्षेत्र के समीपस्थ स्थित पेड़ताली व कुशवई प्लांटेशन का है। जहां पारिश्रमिक भुगतान के नाम पर करीब आठ लाख रुपये ऐसे खाताधारको के खाते में ट्रांसफर किये गये हैं,जिनका मजदूरी से दूर-दूर तक वास्ता नही है। बल्कि वे ठेकेदारी,छोटे-मोटे व्यवसाय,खेती किसानी जैसे कामकाज करते है। हालांकि मोरवा क्षेत्र का यह एक बानगी है। जिले के अधिकांश प्लांटेशनो में डीएमएफ फण्ड के राशि की बंदरबांट किये जाने की जोर-शोर से चर्चाएं है।

सूत्रो से मिली जानकारी के अनुसार वन मण्डल क्षेत्र के मोरवा सर्किल अंतर्गत पेड़ताली के प्लांटेशन में पौधो के संरक्षण व घास फूस व झाडिय़ो की साफ करने के नाम पर दो-चार नही बल्कि आठ लाख रुपये वन विभाग ने आंख बंद कर खर्च कर दिया है। मजे की बात है कि वन विभाग के मैदानी अमले ने बिना प्लांटेशन में साफ-सफाई किये ही श्रमिको के नाम पर भुगतान कर दिया है। हैरानी की बात है कि जिन श्रमिको के खाते में राशि बैंक में भेजी गयी है उनका मजदूरी से दूर-दूूर का नाता नही है। बल्कि वे ठेकेदारी,किराना दुकान व अन्य व्यवसाय के साथ-साथ संपन्न घराने के है। बावजूद उन्हें वन विभाग के मैदानी अमले ने असली मजदूरों के हक में डाका डालते हुये संपन्न लोगो को मजदूर बना दिया है।

फाईल फोटो
फाईल फोटो

READ MORE संभागी कमिश्नर की मीटिंग में पहुंचे एक जिले से दो सीएमएचओ

सूत्र बताते हैं कि स्थल पर एक सप्ताह पूर्व तक कोई भी कार्य आरंभ ही नही हुआ था। उसके पहले ही संपन्न,पूंजीपति मजदूरों के बैंक खाते में राशि ट्रांसफर कर दी गयी है। बताया जा रहा है कि पेड़ताली,कुसवई में करीब 76 हजार वृक्षारोपण वर्ष 2017 में डीएमएफ फण्ड से कराया गया था। चर्चाओं के अनुसार राशि की बंदरबांट करने के लिये वन विभाग ने एक नायाब तरीका निकाला और इस शातिराने खोज में उप वन मण्डलाअधिकारी से लेकर सहायक परिक्षेत्राधिकारी व बीट गार्ड की भूमिका संदिग्ध बताई जा रही है। फिलहाल वन विभाग के द्वारा कराये गये प्लांटेशन में घास,झाडिय़ां की साफ-सफाई के नाम पर अकेले मोरवा के पेड़ताली कुसवई में नही बल्कि जिले भर में जहां-जहां डीएमएफ फण्ड से प्लांटेशन कराया गया है अमूमन सभी जगह इसी तरह के गड़बड़झाला किये जाने की बू आ रही है।

फाईल फोटो
फाईल फोटो

READ MORE महिला बाल विकास में निकली भर्तियां, ये है आवेदन की अंतिम तारीख

आनन-फानन में शुरू हुआ सफाई कार्य
सूत्र बताते हैं कि प्लांटेशन में झाडिय़ो की साफ-सफाई के नाम पर लाखों रूपये पूंजीपति मजदूरो के खाते में राशि ट्रांसफर किये जाने का मामला जब एक भाजपा के नेता ने उप वन मण्डलाअधिकारी व अन्य वन महकमे के संज्ञान में लाया और उन्हें जमकर लताड़ा भी। उप वन मण्डला अधिकारी को यहां तक कहा है कि इस घोटाले में आप भी संलिप्त है, इसमें आप जांच क्या करायेंगे। भाजपा नेता के इस घुड़की के बाद से ही वन विभाग में हड़कम्प मच गया और आनन-फानन में प्लंाटेशन की साफ-सफाई तीन दिन से शुरू है।

फाईल फोटो
फाईल फोटो

READ MORE उत्पादन लागत मूल्य कम किये बगैर खेती लाभ का धंधा कैसे बनेगी ….

पौध सरंक्षण के नाम पर लाखो का गोलमाल
जानकार सूत्रो के मुताबिक मोरवा वन बीट के कुसवई व पेड़ताली प्लांटेशन में घास,झाडिय़ो की साफ-सफाई कराये बगैर ही एक सप्ताह पहले लाखो,करोड़ो के पंजीपति मजदूर परमेन्द्र,गिरजा,सावित्री,बृजेन्द्र जो व्यवसाय भी करते हैं,वहीं जवाहर,कमला,भगवानदास ऐसे श्रमिका है जिनके पास टै्रक्टर सहित अन्य सुख सुविधाओं से संपन्न है। उनके बैंक खाते में एक सप्ताह पहले राशि वन विभाग के द्वारा मजदूर बताकर ट्रांसफर कर दी गई है। इस तरह के अन्य कई श्रमिक है।

READ MORE आपके जीवन मे आएं खुशियां, यही हमारा लक्ष्य – शिवराज

उच्च स्तरीय जांच की उठी मांग
सूत्रो के मुताबिक वर्ष 2017 में जिले के कई वन परिक्षेत्रों में प्लांटेशन डीएमएफ फण्ड से वन विभाग के द्वारा कराया गया है। जहां सूत्र बताते हैं कि प्लांटेशन व उनके साफ-सफाई के नाम पर लाखो रुपये के गड़बड़झाला किये जाने का मामला सामने आ रहा है। यदि उक्त मामले की निष्पक्ष पूर्वक उच्च स्तरीय जांच हुई तो कई वन विभाग के चेहरे भी बेनकाब होंगे और डीएमएफ फण्ड की राशि में हो रही बंदरबांट पर शिकंजा कसा जा सकता है अन्यथा इसी तरह वन अमला राशि की बंदरबांट करता रहेगा।

इनका कहना है
शिकायत हुई थी एसडीओ के माध्यम से जांच कराया गया है। प्लांटेशन में काम हुए हैं। जैसे-जैसे काम होता जायेगा उसी हिसाब से भुगतान होगा। मजदूरों के खाते में ही राशि गयी है जिसके द्वारा इस तरह के आरोप लगाये गये हैं वह मिथ्या है।
विजय सिंह
डीएफओ, सिंगरौली

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button