Satna News : विभागीय परिसंपत्तियों के संधारण के लिए दिशा-निर्देश जारी

सतना राज्य शासन ने विभागीय परिसंपत्तियों के संधारण के लिए नई योजना में सभी विभागों को दिशा-निर्देश जारी किये हैं। इसके अनुसार शासन के किसी भी विभाग के स्वामित्व की गैर-आवासीय अचल परिसंपत्तियों तथा राज्य शासन के उपक्रम, मंडलों आदि से लीज अथवा किराए पर लिए गए गैर-आवासीय भवन विभागीय परिसंपत्तियों की श्रेणी में आएंगे।

किसी निजी व्यक्ति, संस्थान से लीज अथवा किराए पर ली गई गैर आवासीय अचल संपत्तियाँ इसमें शामिल नहीं होंगी। यदि लीज अथवा किराए के अनुबंध में साधारण मरम्मत का दायित्व किराएदार का है तब ऐसी गैर-आवासीय अचल संपत्ति भी योजना में सम्मिलित रहेगी।विभागीय परिसंपत्तियों की सामान्य मरम्मत एवं विशेष मरम्मत के संबंध में वित्त विभाग ने निर्देश जारी कर दिये हैं।

सामान्य मरम्मत में छोटे एवं कम तकनीकी महत्व के कार्य तथा छत की साधारण मरम्मत, पुताई, पेंट-पुट्टी कार्य, विद्युत फिटिंग, प्लंबर कार्य, साधारण सेनिटरी फिटिंग, दरवाजा-खिड़की मरम्मत और भवन के फर्श की लघु मरम्मत का कार्य शामिल होंगे। विशेष मरम्मत के कार्यों में अधिक तकनीकी के महत्व के कार्य जैसे भवन की वृहद मरम्मत, छत की मरम्मत और भवन के फर्श का नवीनीकरण आदि शामिल होंगे।

विभागाध्यक्ष अपने प्रशासकीय नियंत्रण के अधीन प्रत्येक भवन के लिए भवन प्रभारी नियुक्त करेंगे। संबंधित भवन में पदस्थ वरिष्ठ अथवा अपने अधीन किसी अन्य कार्यालय के वरिष्ठ कर्मी को भवन प्रभारी नियुक्त करेंगे। भवन प्रभारी राज्य शासन की किसी भी सेवा श्रेणी अर्थात नियमित, कार्यभारित, संविदा मानदेय आदि पर कार्यरत हो सकता है। विभागाध्यक्ष इन भवनों के अनुरक्षण कार्य के लिए कार्यालय/भवन स्तर की पर्यवेक्षण समिति गठन करने के लिए भी निर्देश जारी करेंगे।

गैर-आवासीय भवन के कुल निर्मित क्षेत्रफल के आधार पर साधारण मरम्मत के लिए 335 रुपये प्रति वर्ग मीटर की अधिकतम सीमा होगी। विभागाध्यक्ष अपने प्रशासकीय नियंत्रण के अधीन प्रत्येक भवन के लिए उपर्युक्त सीमा को विचार में रखते हुए बजट आवंटन जारी करेंगे। यदि किसी भवन में विशेष मरम्मत की आवश्यकता है, इसके लिए अलग से आवंटन जारी करेंगे। साथ ही भवनों में मरम्मत की आवश्यकता को देखते हुए प्राथमिकता तय की जायेंगी।

विशेष मरम्मत के कार्यों के लिए लोक निर्माण विभाग की प्रचलित दर अनुसूची लागू होगी। सामान्य मरम्मत के कार्यों के लिए प्रक्रिया निर्धारित कर दी गई है। यदि विभाग में तकनीकी हमला नहीं है, तो विभागाध्यक्ष विशेष मरम्मत कार्य के लिए एजेंसी का निर्धारण कर सकेंगे।

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button