सतना में धान खरीदी का हुआ ऐसा फर्जीवाड़ा जो घुमा देगा आप का दिमाक

सतना में धान खरीदी के नाम पर 21 लाख रुपए की धांधली का सनसनीखेज मामला सामने आया है, जिसमें किसान और पटवारी के ऊपर धोखाधड़ी का मामला पंजीबद्ध किया गया है, मामला कोठी थाना क्षेत्र के सहकारी समिति मर्यादित कोठी का है, जहां एक किसान ने पटवारी के साथ मिलीभगत कर खसरे में वास्तविक जमीन का 157 गुना ज्यादा रकब दिखाकर 21 लाख की धान सरकारी समिति में बेच दी, मामला सामने आने के बाद किसान और पटवारी को मामले में आरोपी बनाया गया है अब पूरे मामले की जांच शुरू हो गई है।

सतना में धान खरीदी के नाम पर 21 लाख रुपए की धांधली

किसानों को लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से सरकार उनके अनाज की खरीदी करती है, लेकिन अब तमाम खरीदी केंद्र भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुका है आए दिन खरीदी केंद्रों में धांधली की खबरें आती रहती हैं, लेकिन मध्यप्रदेश के सतना जिले का यह पहला मामला है जिसमें एक किसान और पटवारी के ऊपर 420 का मुकदमा पंजीबद्ध हुआ है, मामला कोठी थाना क्षेत्र का है आपको बता दें कि किसान बृजेश सिंह जिसके पास महज डेढ़ एकड़ जमीन है, उसने पटवारी के साथ मिलीभगत कर फर्जी तरीके से खतरे में 63.7320 हेक्टेयर यानी लगभग 157 एकड़ जमीन दर्ज करा ली, वही पटवारी ने इस पर बोनी भी दर्ज कर दी

इस फर्जी दस्तावेजों को सतना के कोठी सहकारी समिति में प्रस्तुत किए गए और 1100 कुंटल धान जिसकी कीमत 21 लाख रुपए है बेच दी गई, मामले पर राज्य राजस्व विभाग के अधिकारियों की नजर पड़ी तो समिति प्रबंधक संजय द्विवेदी से पूछताछ की गई जिस पर समिति प्रबंधक ने किसान बृजेश सिंह और हल्का पटवारी के खिलाफ सतना के थाने में शिकायत की और आईपीसी की धारा 420, 34 के तहत कोठी थाने में मामला पंजीबद्ध किया गया है।

खरीदी केंद्रों में लगातार धांधली के मामले अब बढ़ते ही जा रहे हैं, जिसकी वजह से मूल किसान को शासन की इस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा, आय दिन खरीदी केंद्रों में धोखाधड़ी और फर्जी तरीके से खरीदी बिक्री हो रही है जिसे लेकर स्थानी कॉन्ग्रेस विधायक कल्पना वर्मा ने भाजपा सरकार को घेरा है उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया है कि सरकार चाहे तो यह सब फर्जीवाड़ा रोक सकती है लेकिन सरकार किसानों का हित नहीं चाहती।

सतना में भाई बहन ने मिलकर बैंक को लगाया 85 लाख का चूना, बैंक मैनेजर भी शामिल, मामला दर्ज

बहरहाल मामला प्रकाश में आने पर सतना के किसान और पटवारी के ऊपर एफ आई आर दर्ज हो गई अब जांच भी होगी, लेकिन खरीदी केंद्रों में फर्जीवाड़ा हर जगह हो रहा है ना जाने ऐसे कितने फर्जी किसान हैं जो ना केवल सरकार को चूना लगा रहे बल्कि मूल किसानों के हक में डाका डाल रहे, अब देखना होगा कि भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुके तमाम खरीदी केंद्रों पर सरकार किस प्रकार लगाम लगाती है।

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button