नेस्ले इंडिया Maggi कम्पनी पर सतना कोर्ट ने लगाया एक लाख का जुर्माना

जांच में पाया गया कि मसालेदार स्वाद को बढ़ाने के लिए कम्पनी ने मोनोसोडियम ग्लूटामेट का उपयोग किया गया है। दस्तावेजों के आधार पर आरोपीगण पर आरोप सिद्ध पाया गया। जिसके एवज में एडीएम कोर्ट ने विक्रेता संजय टंडन पर 25 हजार एवं निर्माता कम्पनी पर 1 लाख रुपए का शस्ति अधिरोपित किया।

सतना । एडीएम राजेश शाही की कोर्ट ने नेस्ले इंडिया पंतनगर उत्तराखंड पर 5 अक्टूबर को 1 लाख का जुर्माना लगाया है। वर्ष 2015 में लिए गए मैगी के सेम्पल में मोनोसोडियम ग्लूटामेट की अधिकता पाई गई थी। मोनोसोडियम ग्लूटामेट की अधिकता बच्चों की सेहत के लिए हानिकारक होता है।

आपको बता दें कि 30 मई 2015 को खाद्य सुरक्षा अधिकारी सीमा पटेल दोपहर साढ़े 12 बजे के करीब खाद्य पदार्थों के विक्रय स्थल पुष्पराज कालोनी स्थित रामा सेल्स पहुंचीं। मौके पर एक शख्स मिले जिन्होंने अपना नाम संजय टंडन बताया। खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने मौका मुआयना किया और उन्होंने मिलावट की आशंका पर मैगी एवं एवरीडे मिल्क पाउडर ने सेम्पलिंग की।

नेस्ले इंडिया Maggi कम्पनी पर सतना कोर्ट ने लगाया एक लाख का जुर्माना
नेस्ले इंडिया Maggi कम्पनी पर सतना कोर्ट ने लगाया एक लाख का जुर्माना
नेस्ले इंडिया Maggi कम्पनी पर सतना कोर्ट ने लगाया एक लाख का जुर्माना
नेस्ले इंडिया Maggi कम्पनी पर सतना कोर्ट ने लगाया एक लाख का जुर्माना

इन नमूनों को जांच के लिए राज्य खाद्य प्रयोगशाला भेजा गया। 16 दिसम्बर 2015 को जो जांच रिपोर्ट आई उसमें मैगी को मिथ्याछाप घोषित किया गया। जांच में पाया गया कि मसालेदार स्वाद को बढ़ाने के लिए कम्पनी ने मोनोसोडियम ग्लूटामेट का उपयोग किया गया है। दस्तावेजों के आधार पर आरोपीगण पर आरोप सिद्ध पाया गया। जिसके एवज में एडीएम कोर्ट ने विक्रेता संजय टंडन पर 25 हजार एवं निर्माता कम्पनी पर 1 लाख रुपए का शस्ति अधिरोपित किया।

18 हजार वोटो से हारी कल्पना को कांग्रेस ने दिया रैगाव का टिकट, बड़ा है राजनीतिक बैकग्राउंड

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button