SATNA : रीवा सिंगरौली के हादसे के बाद जागा नगर निगम प्रशासन, जर्जर भवनों की गिराने की कार्यवाही शुरू

सतना | रीवा सिंगरौली जर्जर भवन गिरने से 6 लोगों की हुई मौत के बाद सतना नगर निगम ने सबक लेते हुए शहर में मानव जीवन के लिए खतरा बन चुके जर्जर भवनों को गिराने की कार्रवाई शुरू की गई है। नगर निगम ने हनुमान चौक स्थित 70 साल पुरानी धर्मशाला को गिराया है। यह धर्मशाला नगर निगम के जर्जर भवन की सूचियों में सामिल था।

सतना नगर निगम ने अग्रवाल धर्मशाला की संचालिका शकुंतला अग्रवाल पति स्वर्गी रामप्रताप अग्रवाल को भवन का जर्जर हिस्सा गिराने का नोटिस जारी किया था, निगम के नोटिस के बावजूद भवन का जर्जर हिस्सा नहीं गिराए जाने पर निगम के अतिक्रमण दस्ते ने लगभग ढाई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद भवन का जर्जर हिस्सा गिरा दिया, इस दौरान सिटी कोतवाली थाना प्रभारी, नगर निगम के अतिक्रमण दस्ता के प्रभारी समेत भारी पुलिस बल तैनात रहा।

आपको बता दें कि बरसात के पूर्व नगर निगम ने शहर में 65 जर्जर भवन चिन्हित किए थे जिनमें से 35 गिरा दिए गए हैं। जिनमें से कुछ नगर निगम ने गिराए है तो कुछ लोगों ने स्वयं गिरा लिया है, रविवार को भी शहर में ऐसे जर्जर भवन और चिन्हित किए गए जो मानव जीवन के लिए खतरा हो सकते हैं ऐसे में भवनों को स्वयं गिरा लेने की अपील नगर निगम आयुक्त ने की है आयुक्त ने कहा कि रुक रुक कर हो रही बारिश से जर्जर कभी भी धराशायी हो सकते हैं जिससे जन हानि हो सकती है।

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button