सतना के एक्सीलेंस स्कूल मे अच्छी पहल, केमिस्ट्री एलिमेंट्स के नाम पर साइंस स्टूडेंट्स की अटेंडेंस

सतना । सतना के एक्सीलेंस स्कूल ने एक और नवाचार किया है। साइंस स्टूडेंट्स की हाजिरी अब केमिस्ट्री एलिमेंट्स के नाम पर होती है। ऐसा करने की पीछे का मकसद ये है कि इस तरह से बच्चे आधुनिक आवर्त सारिणी के बारे में बखूबी जान लेंगे। जो स्टूडेंट गैरहाजिर रहेगा दूसरे दिन उससे उस एलिमेंट की प्रॉपर्टी पूछी जाएगी जो उसे नाम दिया गया है। अटेंडेंस के समय बच्चे अपने नाम के एलिमेंट की तख्ती अपने हाथ में लिए रहते हैं। जैसे ही क्लास टीचर एलिमेंट का नाम पुकारते संबंधित स्टूडेंट तख्ती उठाकर जयहिंद कहता है।

दुनिया में कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो लीक से हटकर चलना पसंद करते हैं। कुछ ऐसा कर गुजरते हैं जो दूसरों के लिए मिसाल बन जाती है। मध्यप्रदेश के सतना में गणेशोत्सव के दरमियान फिटकरी की गणेश प्रतिमाएं बनाकर दुनिया को प्रदूषण मुक्त त्योहार मनाने का संदेश देने वाले गवर्मेंट इंटरमीडियट व्यंकट नम्बर 1 यानि एक्सीलेंस स्कूल में साइंस ग्रुप के स्टूडेंट्स ने एक और नवाचार किया है। 

दरअसल रसायन विज्ञान में आवर्त सारणी की अहम भूमिका है। आवर्त सारणी में शामिल 118 तत्वों के गुणों को याद रखना बच्चों के लिए सबसे कठिन काम है। बच्चे इसे रटकर या अन्य फार्मूले के जरिए याद करते हैं। इन तत्वों और उसके गुणों को याद रखना रसायन विज्ञान के लेक्चरर डॉ. रामानुज पाठक के नवाचार ने आसान बना दिया है। नवाचार के तहत अटेंडेंस रजिस्टर के सीरियल नंबर और आवर्त सारणी में शामिल तत्व के परमाणु क्रमांक के आधार पर पढऩे वाले बच्चों को एक नई पहचान देकर नामकरण किया गया है।

अटेंडेंस के दौरान आवर्त सारणी में शामिल तत्वों के नाम सुनते ही बच्चे भी अपनी उपस्थित दर्ज कराने के लिए हाथ में तख्ती लेकर बच्चे जयहिंद कहते हैं। रसायन विज्ञान की क्लास में बच्चों की अब यही पहचान बन गई है। फिलहाल यह नवाचार कक्षा 12वीं के एटू सेक्शन में किया गया है। सेक्शन में बच्चों की संख्या 71 होने और तत्वों की संख्या अधिक होने से 47 बच्चों का नामकरण दो-दो तत्वों पर किया गया है। यह नवाचार अगर सफल रहा तो आवर्त सारणी को याद कराने के लिए इसे अन्य विज्ञान की अन्य क्लास में भी लागू किया जाएगा।

कक्षा 12वीं के एटू सेक्शन में रसायन विज्ञान की पहली क्लास है। इसे रसायन विज्ञान के व्याख्याता रामानुज पाठक पढ़ाते हैं। तत्वों का नाम लेकर अटेंडेंस लेते हैं। क्लास में आवर्त सारणी में शामिल तत्वों के आधार पर बच्चों को खड़ा करके जानकारी लेते हैं। इसका फायदा यह होता कि दूसरे बच्चों को उस तत्व के गुणों का पता चल जाता है और फिर उसे आसानी से याद रख सकता है। क्लास में अनुपस्थित बच्चों के नाम बोर्ड में लिखे जाते हैं। जिस तत्व के नाम पर बच्चे का नामकरण किया गया अगले दिन आने पर तत्वों के गुणों के बारे में जानकारी ली जाती है।

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button