सतना में यहाँ से गुजरने पर रोकनी पढ़ती है सांसे

सतना 23 सितंबर । एक ओर पूरा देश कोरोना वायरस के संकट से जूझ रहा है वही सतना जिले के सोहावल गांव के लोग हड्डी गोदाम से आने वाली दुर्गंध की वजह से गंभीर बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। गांव के बीचो-बीच हड्डी गोदाम होने की वजह से ना तो लोग मंदिर में पूजा पाठ कर पा रहे हैं और ना ही स्कूल में बच्चे पढ़ाई कर पा रहे हैं ऐसे में लोगों की मांग है कि जल्द से जल्द गांव से यह हड्डी गोदाम हटाया जाए।

सतना जिला मुख्यालय से लगा यह है सोहावल गांव जहां गांव के बीच हड्डी गोदाम संचालित किया जा रहा है। इस गांव के ग्रामीणों के लिए सबसे परेशानी की बात यह है कि यह हड्डी गोदाम ठीक मंदिर के नजदीक स्थित है वहीं पास में ही गांव का हाई स्कूल भी संचालित होता है। इस गोदाम में मृत मवेशियों की हड्डियां रखने की वजह से दिनभर तेज दुर्गंध बनी रहती है ऐसे में मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं और स्कूल में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं के साथ ही यहां के शिक्षकों को भी सांस लेना दूभर हो गया है।

यह भी पढ़े सतना जिला अस्पताल में 5 मेडिकल विशेषज्ञ कोरोना संक्रमित, रीवा से बुलाए गए डॉक्टर

आलम यह है के सोहावल गांव स्थित इस मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं को मुंह और नाक में कपड़ा बांधकर पूजा करना पड़ता है वहीं कई ग्रामीण इस दुर्गंध की वजह से संक्रामक बीमारियों की चपेट में भी आ रहे हैं। ऐसा ही हाल शासकीय स्कूल में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं का है स्कूल के नजदीक हड्डी गोदाम होने की वजह से दिन भर बदबू और दुर्गंध बनी रहती है जिसके कारण छात्र छात्राओं को नाक मुंह बंद करके पढ़ाई करनी पड़ रही है। कई छात्र अब स्कूल आने से भी कतरा ने लगे हैं। इन सभी परेशानियों को देखते हुए ग्रामीणों ने अब एकजुट होकर इस हड्डी गोदाम को गांव से बाहर स्थानांतरित करने की मांग कर रहे हैं।

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button