संक्रामक खरीदारी ! बेफिक्र है लोग

सतना : सुबह सुबह सव्जियां खरीदने निकले ज्यादातर लोग कोरोना से बेफिक्र दिखे यहां यह बतलाते चलें कि सोशल डिस्टेंशिंग की तमाम समझाईसों के बावजूद लोग एक दूसरे के बेहद करीब खड़े होकर सव्जियां खरीद रहे थे
संक्रमण के खतरे से वाकिफ होने के बावजूद लोगो का ऐसा बर्ताव उनकी विवशता को दर्शा रहा था क्योंकि सोसल डिस्टेंशिंग और सेल्फ आईशोलेसन तो तभी संभव है जब दैनिक जरूरत की सभी बस्तुयें आपके घर तक पहुंच रही हों ।

ऊल्लेखनीय है कि पिछले दस बारह दिनो के देश व्यापी लाग डाउन के दौरान देश मे कहीं भी ऐसी व्यवस्था देखने को नही मिली जहां लोगों को घर से बाहर निकले बगैर ही जरूरत की चीजे मुहैया हो पा रहीं हों ।
जाहिर है कि ऐसी स्थिति मे कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा लगातार बना रहेगा ।

third party image reference
thard party image reference

अब यह अलग बात है कि मुश्किल दौर मे भी जिंदा रहने की काविलियत रखने वाले इस मुल्क मे रोज कमाने और खाने वाले करोड़ो गरीब अब तक कोरोना की मार से बचे हुये है बहरहाल आज व्यंकट क्रमांक 2 के मैदान मे मैने जिस तरह से निश्चिंत होकर लोगों को सव्जी खरीदते देखा है वह वैश्विक संक्रमक के दौर मे निश्चय ही चौंका देने वाला दृश्य था ।
विशेष आभार : अशोक शुक्ला ( वरिष्ठ पत्रकार )

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button