ये कैसा बचपन ! जहा हावी है बदला, पडोसी निकला मासूम का कातिल !

कभी कभी नाबालिक ऐसा अपराध कर जाते है की बड़े बड़े हैरान हो जाते है कुछ ऐसा ही अपराध हुआ सतना जिले के नागौद में जहा 17 साल के नाबालिक ने अपने से 6 साल छोट बच्चे की जान ले ली वह भी महज एक छोटे से विवाद में जी हां छोटा विवाद, पढ़िए पुलिस जुबानी पूरा मामला

सतना पुलिस ने नागौद कस्बे में स्कूली छात्र के हत्यारे तक पहुची , बीस दिन की कड़ी मेहनत के बाद हत्यारा पुलिस की गिरफ्त में आया हत्यारा कोई और नही बल्कि पड़ोसी का नाबालिक पुत्र निकला ,जिसका विबाद मृतक मासूम से हुया था और आरोपी ने कुल्हाड़ी मार कर हत्या कर दी थी सतना जिले के नागौद कस्वे के इंद्रा नगर मुहल्ले में 25 फरबरी की दोपहर 11 वर्षीय स्कूली छात्र की लाश घर मे खून से लतपथ मिली थी ,शवो में धारदार से सर में 6 वार किए गए थे दिन दहाड़े घटी इस घटना का कोई चश्मदीक नही था इस अंधी हत्या के हत्यारे तक पहुचने के लिए पुलिस 20 दिनों तक कड़ी मेहनत की करीब 45 लोगो को हिरासत में लिया और पूछताछ की सतना से पन्ना तक मृतक के सगे संबंधियों के रंजिस तलाशे ,मगर पुलिस को कोई सुराग नही मिला आखिरकार पुलिस को मृतक के बड़े भाई से एक छोटा था क्लू मिला और पुलिस हत्यारे तक पहुच गई। दरअसल मृतक छात्र कृष्णकांत झगड़ालू प्रवित्त का था घर के बाड़े में लगी सब्जी पड़ोसी की पालतू गाय खा गई थी जिससे वो बेहद खफा था और आक्रोशित होकर गाय को धारदार हथियार मार कर घायल कर दिया था घटना के दिन मौसी के घर से लौटे कृष्णकांत के घर मे लागाई गई सब्जी को फिर गाय ने खा लिया इससे आक्रोशित कृष्णकांत स्कूल न जाकर पड़ोसी के घर जाने लगा तभी पड़ोसी के नाबालिक 17 वर्सीय लड़के से विबाद हुया विबाद इतना बढ़ा की दिनों झूमाझटकी हुई मृतक भागकर घर आ गया और आरोपी घर पहुच कर कुल्हाड़ी से ताबड़तोड़ हमला कर मौत के घाट उतार दिया और घर चला गया आरोपी पड़ोस में ही था और पुलिस ने दो बार पूछताछ की मगर जुल्म नही कबूला आखिरकार मृतक के बड़े भाई से मिले क्लू से मनोबैज्ञानिक रूप से पूछताछ की और इस अंधी हत्या का राज खुला आरोपी नाबालिक को पुलिस ने हिरासत ने लेकर बाल न्यायालय में पेश किया जहां से आरोपी को जेल भेज दिया गया पुलिस ने इस हत्याकांड के खुलाशे के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में तीन गठित की थी और दस हजार का इनाम घोषित कर रखा था पुलिस इस मामले को बड़ा चैलेंज मानकर चल रही थी

संवाददाता,अमरीश सिंह

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button