जबलपुर STF की सतना में दबिश ! शस्त्र लाइसेंस का फर्जीवाड़ा

JABALPUR STF TEAM REACHES SANTA TO INVESTIGATE ARMS LICENSE FRAUD

सतना | जिला एवं पुलिस प्रशासन के गले की हड्डी बन चुके फर्जी शस्त्र लाइसेंस मामले में जबलपुर STF ने एकबार फिर सतना में दबिश दी है । बुधवार की शाम सतना में दस्तक देने वाली इस STF टीम की ख़बर लगने के बाद शुक्रवार को कलेक्ट्रेट के गलियारों में 112 शस्त्र लाइसेंस निरस्त किए जाने की ख़बर सामने आई है हालांकि इसकी पुष्टि नही हो पाई है ।

दरअसल भाजपा के सत्ता में आने के बाद बीते क़रीब 19 वर्षों के दौरान थाना प्रभारियों के अनुमोदन के साथ ही कलेक्ट्रेट की शस्त्र शाखा के बाबुओं की मिली भगत के चलते एकाएक लाइसेंस धारियों की जिले में इतनी बड़ी फ़ौज खड़ी हो गई जो विंध्य के रीवा एवं शहडोल संभाग की ए एस एफ से बड़ी हो गई । मामला संज्ञान में आने के बाद विगत 2017 से जाँच शुरू हुई जो आज भी अनवरत चल रही है ।

ये भी पढ़ें :

रीवा में 7 चिकित्सक निकले कोरोना पॉजिटिव, मेडिकल कॉलेज में संक्रमण बढ़ने की आशंका

बात उस वक्त की – आख़िर ऐसा क्यों

नियमतः शस्त्र लाइसेंस के लिए पुलिस विभाग के माध्यम से प्राथमिक तौर पर सम्बंधित क्षेत्र के टीआई NOC देते रहे है किंतु यहां शस्त्र लाइसेंस के नाम पर एक बड़ा गठजोड़ था जो प्रशासन और पुलिस के बीच घूमता रहा है । इस खेल में कलेक्ट्रेट की शस्त्र शाखा के ऑफिस के बाबुओं की मिली भगत सामने आई इसकी जांच वर्षों से लंबित है यही वजह की पी एच क्यू को शस्त्र लाइसेंस के फर्जीवाड़े में STF को यहां भेजना पड़ा । अब शोसल मीडिया में 112 शस्त्र लाइसेंसों के निरस्त किए जाने की खबर आई लेकिन इसकी पुष्टि करने कोई सामने नही आ रहा ।

ये भी पढ़ें :

जबलपुर STF की सतना में दबिश ! शस्त्र लाइसेंस का फर्जीवाड़ा

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button