Rewa Mango : रीवा में होने वाले शुगर फ्री सुंदरजा आम की बहार, क्या है इस आम खासियत

Rewa जिले के गोबिंदगढ़ के बगीचों में मिलने वाले सुंदरजा आम की खुशबू अब विंध्य के अलावा विदेशों में भी पहुंच गई है, लोग अब सुंदरजा आम को जानने और खाने के लिए उत्सुक हैं, इसकी मिठास का कोई अंत नहीं है क्योंकि यह आम मधुमेह के लिए प्रयोग किया जाता है। मरीज भी कर सकते हैं। इस आम की विशेषता यह है कि सुंदरजा में रेशे नहीं होते, सुंदरजा आम कहाँ पाया जाता है?

Rewa Mango : रीवा में होने वाले शुगर फ्री सुंदरजा आम की बहार,  यह आम सबसे पहले Rewa जिले के गोबिंदगढ़ किला परिसर के बागों में पाया जाता है और फिर गोबिंदगढ़ क्षेत्र सहित रेवाड़ कुथुलिया फल अनुसंधान केंद्र में बड़ी मात्रा में पाया जाता है। जब रीवा अनुसंधान केंद्र का कुथुलिया फल हल्का हरा होता है। पहले यह आम राजा राज्य की पहली पसंद था लेकिन अब यह देश विदेशों में प्रसिद्ध है।

Rewa Mango : रीवा में होने वाले शुगर फ्री सुंदरजा आम की बहार,
photo by google

Rewa Mango : रीवा में होने वाले शुगर फ्री सुंदरजा आम की बहार,

Rewa गोबिंदगढ़ किला परिसर में स्थित उद्यान में सुंदरजा आम राजाओं की विशेष पसंद मानी जाती थी, लेकिन अब दिल्ली, मुंबई, छत्तीसगढ़, गुजरात सहित कई राज्यों के लोग इसे अग्रिम आदेश से प्राप्त करते हैं। इतना ही नहीं, यह विदेशों में भी बहुत लोकप्रिय है, खासकर फ्रांस, इंग्लैंड, अमेरिका, अरब देशों में।

इसे भी पढ़े- शुगरफ्री सुंदरजा से लेकर MP में फल रहे अमेरिकी आम:​​​​​​​Rewa में आम की 237 किस्में; कोई रंग-बिरंगा तो किसी का वजन आधा किलो तक

सुंदरजारी के नाम से स्टाम्प जारी किए गए थे
आपको बता दें कि सुंदरजा आम इतना लोकप्रिय है कि 1968 में इस आम के नाम से एक डाक टिकट जारी किया गया था।

Rewa Mango : रीवा में होने वाले शुगर फ्री सुंदरजा आम की बहार,
photo by google

इसे भी पढ़े- चने का सेवन करने वाले लोग हों जाएं सावधान वरना हो सकते हैं ये खतरनाक नुकसान

सुंदरजा आम की विशेषता क्या है?
इस आम की सुगंध बहुत ही लाजवाब होती है। आंखें बंद करने पर भी आप इसकी सुगंध को पहचान सकते हैं।रेवर रिसर्च सेंटर के वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि गोबिंदगढ़ की मिट्टी में सुंदरजा आम भी अद्भुत है। इस मिट्टी में उगने वाले पेड़ों से निकलने वाले फलों का स्वाद अद्भुत होता है। हालांकि, रेवर फ्रूट रिसर्च सेंटर में आम की कई किस्में उपलब्ध हैं, जिनमें लॉकडाउन आम्रपाली दशरी चौशा के साथ-साथ सुंदरजा भी शामिल है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button