snn

China’s के नकली सूरज और चांद के राज का हुआ खुलासा, आप भी यहां जान लीजिए

China’s दुनिया भर में सस्ती और नकली चीजें बनाने के लिए मशहूर है। दुनिया के हर बाजार पर चीन का कब्जा है। पहले उसने सूरज बनाया था लेकिन अब उसने चांद भी बनाया है। इस नकली चाँद में गुरुत्वाकर्षण नहीं है। इस चांद को बनाने के पीछे चीन की बड़ी रणनीति है। आइए जानें China’s ने क्यों बनाया ये चांद...

नकली चाँद पर खत्म होता है गुरुत्वाकर्षण
China’s  इस नकली चाँद पर एक नई दुनिया बसाना चाहता है। इसने गुरुत्वाकर्षण को समाप्त कर दिया है, क्योंकि यह चुंबकीय ऊर्जा के उपयोग का परीक्षण कर सकता है, और भविष्य में, चुंबकीय-संचालित वाहनों और परिवहन के नए तरीकों की खोज की जा सकती है।

चाइना यूनिवर्सिटी ऑफ माइनिंग एंड टेक्नोलॉजी के जियोटेक्निकल इंजीनियर ली रुइलिन के मुताबिक, वैक्यूम चैंबर चट्टानों और धूल से भर जाएगा। यह चंद्रमा की सतह जैसा होगा।

पृथ्वी पर पहली बार चंद्रमा की ऐसी सतह बनाई जाएगी। इसका कम से कम इस्तेमाल किया गया है और यह सफल रहा है। हालांकि, अब अगले परीक्षण में, कम गुरुत्वाकर्षण बल बनाए रखने के लिए यह परीक्षण अधिक समय तक चलाया जाएगा।

China's के नकली सूरज और चांद के राज का हुआ खुलासा, आप भी यहां जान लीजिए
photo by google

चीन मजबूत चुंबकीय बल के साथ वैक्यूम चैंबर तैयार करेगा
यह चीनी वैज्ञानिकों का एक छोटा सा प्रयोग है। उसके बाद, इस साल के अंत तक, China’s चुंबकीय ऊर्जा के साथ एक शक्तिशाली वैक्यूम कक्ष विकसित कर लेगा। यह 2 फीट व्यास का होगा। उसके बाद मेंढ़क से गुरुत्वाकर्षण को पूरी तरह खत्म कर हवा में उड़ा दिया जाएगा।

नहीं देखा होगा ऐसा alcoholic! खुद पानी में डूब गया लेकिन नहीं गिरने दी ड्रिंक्स की ग्लास

China’s इंजीनियर ने कहा, “परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा होने के बाद, हम चंद्रमा पर परीक्षण भेजेंगे।” यहां गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण का केवल 6 वां है। उसके बाद China’s चांद पर लोगों को बसाने का नया तरीका खोजेगा। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि मानव बस्तियां हवा में न उड़ सकें।

आपको बता दें कि लोग कम गुरुत्वाकर्षण बल के कारण चंद्रमा की सतह पर नहीं चलते, बल्कि उड़ने लगते हैं। यही कारण है कि किसी भी निपटान को बनाए रखने के लिए इस गुरुत्वाकर्षण परीक्षण की आवश्यकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button