पान बेचने वाले संकेत ने भारत को CWG – 2022 में दिला दिया पदक ! जानिए कौन हैं संकेत !

CWG 2022: पिता के साथ पान बेचने वाले संकेत सरगर (Sanket Sargar) ने कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games) में देश का पहला मेडल जीत लिया है. उन्होंने भारोत्तोलन के 55 किलोग्राम (Weightlifting 55 kg category) भार वर्ग में रजत पदक जीता। संकेत के पिता महादेव सरगर महाराष्ट्र के सांगली के मुख्य बाजार में पान और चाय की दुकान चलाते हैं। संकेत भी पिता के साथ उनकी पान की दुकान में मदत करते थे

Sanket father at paan shop
Photo : Social Media

सांगली जिला भारोत्तोलन संघ के अध्यक्ष सुनील नाइक ने एक अखबार से बात करते हुए बताया कि संकेत 2013 से भारोत्तोलन (Weightlifting) कर रहे हैं। वह जिला प्रशिक्षक मयूर से प्रशिक्षण ले रहे हैं। संकेत के पिता ने सांगली कस्बे के मुख्य चौराहे पर चाय पान की दुकान लगाते है। संकेत के दो भाई और एक बहन है। उनकी छोटी बहन ने खेलो इंडिया राष्ट्रमंडल खेलों में महाराष्ट्र के लिए स्वर्ण पदक जीता था।

Commonwealth Games की तैयारी 2017 में शुरू हुई थी

पान बेचने वाले संकेत ने भारत को CWG - 2022 में दिला दिया पदक ! जानिए कौन हैं संकेत !
Sanket father at paan shop

सुनील नाइक ने बताया कि संकेत ने 2017 से कॉमनवेल्थ गेम्स की तैयारी शुरू कर दी थी। इस दौरान सुनील ने कोच मयूर के साथ दिन में सात घंटे अभ्यास किया। फिर उनका चयन राष्ट्रीय शिविर के लिए हुआ। उसके बाद उन्होंने मुख्य कोच विजय शर्मा के मार्गदर्शन में तैयारी की। संकेत ने पिछले साल वर्ल्ड चैंपियनशिप में भी देश के लिए सिल्वर मेडल जीता था।

पान बेचने वाले संकेत ने भारत को CWG - 2022 में दिला दिया पदक ! जानिए कौन हैं संकेत !आपको बता दें, पान की छोटी सी दुकान चलाने वाले के बेटे संकेत को वेटलिफ्टिंग का गहरा शौक है. वह खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2020 और खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स 2020 में भी चैंपियन रहे। 55 किग्रा वर्ग में संकेत के नाम राष्ट्रीय रिकॉर्ड (कुल 256 किग्रा) है। संकेत ने ताशकंद में आयोजित 2021 राष्ट्रमंडल भारोत्तोलन चैंपियनशिप में पुरुषों के 55 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक जीत कर कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के लिए क्वॉलीफाई किया था

यह भी पढ़ें : Ranveer Singh’s के न्यूड फोटोशूट के बाद पत्नी दीपिका ने शेयर की लेटेस्ट तस्वीरें, फैंस जमकर कर रहे कमेंट्स

सरगर के पिता महादेव सरगर ने कहा, मैं पान – चाय बेचकर गुजारा करता हूं। मेरे बेटे ने हरियाणा (खेलो इंडिया यूथ गेम्स) में महाराष्ट्र के लिए स्वर्ण पदक जीता था और अब बेटे ने राष्ट्रमंडल खेलों में पहला पदक जीता है । मैं बहुत खुश हूँ।

यह भी पढ़ें : Chilli garlic paneer: मार्केट के चिल्ली गार्लिक पनीर से भी मिलेगा बेहतर स्वाद, आज ही घर पर ट्राई करें यह रेसिपी

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button