MP में है ये चमत्कारिक चट्टान जिसे पीटने पर आती है घंटी की आवाज़

यहां एक ऐसी चमत्कारी चट्टान है, जिसे पीटने पर घंटी की आवाज़ आती है। जिसे यहां के निवासी मां अंबे का चमत्कारी मानते हैं। मगर इससे भी बड़ी बात ये है कि इस अनोखे स्थान पर जाने के व्यक्ति को पहाड़ी चट्टानों और कांटों भरी झाडियों को पार करना पड़ता है। जो पार करना आसान नहीं है।

रतलाम, 09 अक्टूबर (हि.स.)। रतलाम जिला मुख्यालय से 25 कि.मी. दूर बेरछा गांव के पास अम्बे माता का चमत्कारिक मंदिर है। कहा जाता है कि जो भी अपनी मनोकामना के लिए मां के सामने मन्नत लेकर जाता है उसकी मन्नत पूरी होती है। इसी मंदिर के पास एक चमत्कारी चट्टान भी है, जिसे बजाने पर ध्वनी उत्पन्न होती है।

इसे लेकर मान्यताएं प्रचलित हैं कि जो भी भक्त इस मंदिर के दर्शन करने जाता है उसकी सभी मनोकामनाएं शीघ्र पूरी हो जाती हैं। खासतौर पर नवरात्रों में यहां अधिक भीड़ देखने को मिलती है। मंदिर के निर्माण को लेकर कहा जाता है कि सन् 1664 से भी पूर्व इस मंदिर की स्थापना की गई थी। लोक मत के अनुसार यहां गांव के ही प्रसिद्ध संत ने जिंदा समाधि ली थी। जिसके बाद इस क्षेत्र की मान्यता अधिक बढ़ गई। परंतु इन सब के अलावा एक और ऐसी बात जो आज तक चर्चा में है।

बताया जाता है यहां एक ऐसी चमत्कारी चट्टान है, जिसे पीटने पर घंटी की आवाज़ आती है। जिसे यहां के निवासी मां अंबे का चमत्कारी मानते हैं। मगर इससे भी बड़ी बात ये है कि इस अनोखे स्थान पर जाने के व्यक्ति को पहाड़ी चट्टानों और कांटों भरी झाडियों को पार करना पड़ता है। जो पार करना आसान नहीं है। पर जो पार करता है उसे कई तरह के दैविक चमत्कारों के दर्शन होते हैं।

वृषभ राशि : व्यावसायिक क्षेत्र में आर्थिक लाभ और नौकरी में तरक्की के योग रहेंगे

चमत्कारी चट्टान को लेकर ग्रामीण लोगों द्वारा बताया जाता है कि यह चमत्कारी घंटी जैसी बजने वाली चट्टान यहां कब से है और इसकी खोज किसने की, इस राज को आज तक कोई नहीं जान पाया। आसपास के लोगों ने पहाड़ी पर मौज़ूद ऐसी सैकड़ों चट्टानों को ठोककर देखा है लेकिन ऐसी घंटी जैसी आवाज़ किसी में नहीं है। जिस कारण यह माना जाता है कि इस अनोखे पत्थर में दैविक शक्ति हैं, बहरहाल इस पत्थर की पूजा की जाती है। यहां के ग्रामीण इसे मां अम्बे का चमत्कार मानकर आज भी पूज रहे हैं। आसपास के क्षेत्रों में इस घंटी वाली चमत्कारी चट्टान की प्रसिद्धि भी बड़ रही है और ये स्थल आस्था का नया केंद्र बन चुका है।

हिन्दुस्थान समाचार/शरद जोशी

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button