ये हैं विवाह के शुभ मुहूर्त

उज्जैन, 18 जुलाई । आगामी 20 जुलाई को देव सो जाएंगे। इस दिन देवशयनी एकादशी है। भगवान चार माह का चातुर्मास करेंगे। हालांकि इस बार तिथियों के घटने के कारण पूरे चार माह का चातुर्मास नहीं रहेगा। देव जब जागेंगे तो नवम्बर एवं दिसम्बर माह में केवल 13 विवाह मुहूर्त रहेंगे।

ज्योतिषाचार्य पं.आनंदशंकर व्यास के अनुसार देवशयनी एकादशी 20 जुलाई को है। इसके बाद चार माह तक सभी मांगलिक कार्य निषेध रहेंगे। वहीं देव उठनी एकादशी के बाद मांगलिक कार्यो के लिए केवल 13 मुहूर्त नवंबर एवं दिसंबर माह में है।

नवंबर माह में 15,16,20,21,28,29 और 30 नवंबर।

दिसंबर माह में 1,2,6,7,11 और 13 दिसंबर।

कोरोना की आशंका में बुक नहीं हो रहे मांगलिक परिसर

इधर नवंबर और दिसंबर माह में विवाह के केवल 13 मुहूर्त होने के बावजूद शहर के मांगलिक परिसर,होटल्स,गार्डन आदि अभी तक उक्त दिनांकों के लिए बुक नहीं हुए हैं। परिसर संचालकों के अनुसार लोगों में आशंका है कि कोरोना की तीसरी लहर आई तो क्या होगा और कितने दिन चलेगी।

संचालक आशीष मल्होत्रा के अनुसार दो वर्ष से टेंट,केटरिंग आदि व्यवसाय ठप पड़ा है। आगे क्या होगा,पता नहीं। वहीं लोगों का कहना है कि जिनके यहां पूर्व में विवाह समारोह थे,उन्होने एडवांस देकर परिसर बुक किए। बाद में लॉकडाउन होने से आयोजन निरस्त हुए। परिसर संचालकों ने आज तक रूपये वापस नहीं दिए। ऐसे में आगे के लिए लोग बुकिंग करके रुपये फंसाना नहीं चाहते। तात्कालिक निर्णय लेकर काम करेंगे।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button