Chhath Puja : उदीयमान सूर्यदेव को अर्घ्य देने के साथ चार दिनी छठ महोत्सव समाप्त

मध्य प्रदेश में सूर्योपसना का छठ महापर्व Chhath Puja  धूमधाम से मनाया गया। भोपाल समेत प्रदेश के सभी शहरों में आठ नवंबर में चल रहे चार दिवसीय छठ महापर्व Chhath Puja का गुरुवार को सर्द सुबह प्रदेश में बसे पूर्वांचल के हजारों श्रद्धालुओं द्वारा उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ हुआ

इंदौर/भोपाल, 11 नवम्बर (हि.स.)। मध्य प्रदेश में सूर्योपसना का छठ महापर्व Chhath Puja  धूमधाम से मनाया गया। भोपाल समेत प्रदेश के सभी शहरों में आठ नवंबर में चल रहे चार दिवसीय छठ महापर्व Chhath Puja का गुरुवार को सर्द सुबह प्रदेश में बसे पूर्वांचल के हजारों श्रद्धालुओं द्वारा उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ हुआ।

बुधवार शाम को अस्ताचलगामी सूर्यदेव को अर्घ्य देने के पश्चात मध्य रात्रि के पश्चात से ही शहर के विभिन्न घाटों पर श्रद्धालुओं एवं छठ व्रतियों का आना शुरू हो गया। गुरुवार सुबह 4 बजे तक शहर के सभी घाट छठ उपासकों एवं श्रद्धालुओं से भरे नजर आ रहे थे। रंग बिरंगी विद्युत से सजी ये घाटें, छठ मैया के लोकगीतों के बीच अत्यंत मनमोहक दृश्य पैदा कर रहे थे। सूर्योदय का समय जैसे जैसे निकट आ रहा था, जल कुंडों में खड़ी व्रती महिलाएं एवं पुरुष एकाग्रचित होकर भगवान् भास्कर की आराधना में लीन होकर घर परिवार, समाज, प्रदेश एवं देशवासियों की सुख समृद्धि, शांति हेतु कामनाएं कर रहे थे।

घाटो पर रही छठ महापर्व Chhath Puja  की धूम

सूर्योदय होते ही शहर के अनेकों घाटों पर उपस्थित बिहार एवं पूर्वांचल के साथ-साथ स्थानीय श्रद्धालुओं ने भगवान् भास्कर के उदीयमान स्वरुप को ”आदि देव नमस्तुभ्यं प्रसीद मम भास्कर:, दिवाकर नमस्तुभ्यं प्रभाकर नमोऽस्तुते ” तथा ऊं सूर्याय नम: के मंत्रोच्चार के बीच अर्घ्य देकर घर परिवार, समाज एवं देश के सुख समृद्धि एवं कोरोना महामारी से मुक्ति की कामना की।

पारण कार्यक्रम में तड़के चार बजे से ही भोजुपरी समाज के लोगों का घाटों व कुंडों पर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। सुबह पांच बजे गाय के दूध का वितरण किया गया। 6:20 बजे पुष्प वर्षा, नौका विहार किया गया। सुबह 6:31 बजे छठव्रती महिलाओं ने सामूहिक रूप से उगते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया गया। गाय के दूध से डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देकर भोलपुरी समाज ने छठ महापर्व Chhath Puja का समापन किया। छठ महापर्व के समापन के मौके पर व्रतधारी महिलाओं ने व्रत खोला।

भोपाल में शीतलदास की बगिया, कमला पार्क, पांच नंबर, भेल बरखेड़ा, हथाईखेड़ा, प्रेमपुरा सहित शहर के करीब 50 विसर्जन घाटों व कुंडों पर भोजपुरी समाज के लोगों ने कमर तक पानी में प्रवेश करके सूर्य भगवान की पूजा-अर्चना की। सबकी सुख-समृद्धि और कोरोना से मुक्ति की कामना की। विधि-विधान से पूजा-अर्चना करने के बाद ठेकुआ की प्रसादी का किया गया।

पूर्वोत्तर सांस्कृतिक संस्थान के प्रदेश महासचिव केके झा ने बताया कि इंदौर शहर में स्थानीय नेताओं, विशेषरूप से कैलाश विजयवर्गीय, शंकर लालवानी, जीतू पटवारी, संजय शुक्ला ने शहर के अलग-अलग घाटों पर उपस्थित होकर भगवान् भास्कर को अर्घ्य दिया और छठ पूजा Chhath Puja में शामिल हुए। तुलसी नगर में छठ आयोजकों द्वारा उपस्थित श्रद्धालुओं को ठेकुआ, केला एवं अन्य मौसमी फलों का प्रसाद वितरण किया गया।

Vastu के अनुसार घर में मंदिर बनवाते वक्त रखना चाहिए इसका ध्यान, नहीं होगी सुख समृद्धि कोई कमी

सुबह की ठंढी बेला में, मन को झंकृत कर देने वाली छठी मैया के लोक गीतों के बीच इंदौर के अनेकों छठ घाटों विशषरूप से स्कीम न 54, स्कीम न 78, बाणगंगा, श्याम नगर एनेक्स, देवास नाका, सिलिकॉन सिटी, कैट रोड, एरोड्रोम रोड, पिपलियाहना तालाब,तिरुपति पैलेस निपानिया, तुलसी नगर, सूर्यदेव नगर का नज़ारा बिलकुल भक्तिमय हो गया, जहां छठ व्रतधारी जल कुंडों के ठंडे पानी में खड़े होकर बंद आखों से सूर्यदेव की आराधना में लीन थे, उनके परिजन घाट के समीप खड़े होकर भगवान् भास्कर के उदयकाल की प्रतीक्षा कर रहे थे।

कोरोना महामारी को दृष्टिगत रखते हुए शहर के छठ पूजा Chhath Puja आयोजन समितियों द्वारा छठ घाटों पर सेनिटाइज़शन, मास्क इत्यादि की व्यवस्था की गयी थी तथा श्रद्धालुओं को उद्घोषणा के माध्यम से कोरोना नियमों का अनुपपालन करने के लिए कहा जा रहा था। बहुत सारे छठ उपासकों के परिवारों ने अपने अपने अपने घरों पर ही छठ पूजा का आयोजन कर कृत्रिम जलकुण्डों में भगवान् भास्कर को अर्घ्य दिया।

पूजा-अर्चना समाप्त होने के पश्चात घाट का पूजन किया गया। वहां उपस्थित लोगों में प्रसाद वितरण करके व्रतधारी घर आए और घर पर भी अपने परिवार में प्रसाद वितरण किया। व्रतधारियों ने घर वापस आकर पीपल के पेड़ की पूजा की। इसके बाद कच्चे दूध का शरबत पीकर तथा थोड़ा प्रसाद खाकर व्रत पूर्ण किया। छठ पूजा Chhath Puja के दिन से इस दिन तक निर्जला उपवास करने के बाद फिर नमक युक्त भोजन ग्रहण किया।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button