इस दिवाली अगर नहीं करेंगे यह गलती तो मां लक्ष्मी हो जाएगी प्रसन्न

If you do not do this mistake this Diwali, then mother Lakshmi will be happy

हिंदू धर्म में दीपावली के पर्व का विशेष महत्व है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर साल कार्तिक मास की कृष्णपक्ष की अमावस्या को दिवाली मनाई जाती है। इस वर्ष कार्तिक अमावस्या 04 नवंबर (गुरुवार) है।

दिवाली में मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है। महालक्ष्मी के स्वागत के लिए चारों ओर दीप जलाए गए। घर के आंगन और मुख्य द्वार में रंगोली बनाई जाती है।

इस दिन मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए तरह-तरह के उपाय किए जाते हैं। हालांकि दिवाली के दिन कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है, नहीं तो महालक्ष्मी परेशान हो सकती हैं।

आइए जानते हैं ऐसी कौन सी चीजें हैं जो महालक्ष्मी को नाराज कर सकती हैं।

अकेले लक्ष्मी माता की पूजा न करें
माँ लक्ष्मी और भगवान गणेश की मूर्तियों को एक निश्चित क्रम में स्थापित करें। भगवान गणेश, लक्ष्मी जी, भगवान विष्णु, मां सरस्वती और मां काली की मूर्तियों को बाएं से दाएं रखें।

इसके बाद लक्ष्मणजी, श्री राम और माता सीता की मूर्तियां हैं। केवल मां लक्ष्मी की पूजा न करें। भगवान विष्णु के बिना उनकी पूजा अधूरी मानी जाती है।

 इस दिन मनाई जाएगी दिवाली, जानिए देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा के क्षण और पूजा की विधि

चमड़े का उपहार न दें
दिवाली के दिन अगर आप किसी को तोहफा देते हैं तो चमड़े की कोई चीज गिफ्ट में न दें। उपहार में मिठाई अवश्य शामिल करें।

पूजा में शोर न करें
आपको बता दें कि मां लक्ष्मी की पूजा करते समय ताली नहीं बजानी चाहिए। ज्यादा जोर से मत गाओ। कहा जाता है कि मां लक्ष्मी को ज्यादा शोर-शराबा पसंद नहीं होता है।

साफ-सफाई का रखें विशेष ध्यान
जहां सत्य, दया और सदाचार का वास होता है वहां मां लक्ष्मी निवास करती हैं। साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। दिवाली पर अपने घर को साफ रखें। इस दिन गंदी जगहों पर नहीं सोना चाहिए।

रात भर दीपक जलाएं
दीपावली पूजा के बाद पूजा घर को बिखरा हुआ न छोड़ दें में बिखराव न करें। रात भर दीपक जलाते रहें और बीच-बीच में घी डालते रहें। दिवाली में मोमबत्तियों की जगह अधिक प्रयोग करें।

पूजा का दीपक घी से जलाएं
पूजो का घर उत्तर-पूर्व दिशा में होना चाहिए। पूजा के दौरान घर के सभी सदस्यों को उत्तर दिशा की ओर मुंह करके बैठना चाहिए। पूजा का दीपक घी से जलाएं। संख्या 11, 21 या 51 होनी चाहिए।

लक्ष्मी पूजन के तुरंत बाद पटाखे न जलाएं
लक्ष्मी पूजा के दौरान पटाखे न जलाएं। लक्ष्मी पूजा के तुरंत बाद पटाखे नहीं जलाने चाहिए। कुछ देर रुकने के बाद पटाखे जलाएं।

लाल रंग का प्रयोग करें
दीपावली के दिन अधिक से अधिक लाल रंग का प्रयोग करें। दीया, मोमबत्ती, रोशनी और लाल फूलों का प्रयोग करें। परेशान करने वाले भगवान गणेश की पूजा के साथ दिवाली पूजा की शुरुआत करें।

किसी से झगड़ा न करें
दिवाली के दिन घर या बाहर किसी से झगड़ा न करें। माता लक्ष्मी शांतिप्रिय हैं इसलिए यदि आप माता लक्ष्मी को अपने घर आमंत्रित करना चाहते हैं तो घर में झगड़ा न करें।

सात्विक भोजन करें
दिवाली के दिन नाखून नहीं काटने चाहिए, बाल नहीं काटने चाहिए या मुंडन नहीं करना चाहिए। इस दिन देर तक न सोएं। जल्दी उठो और पूजा करो। दिवाली के दिन मांस और शराब और धूम्रपान से बचना चाहिए। हो सके तो इस दिन सात्विक भोजन करें।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button