दिवाली में गणेश लक्ष्मी जी की मूर्ति खरीदते समय रखना चाहिए इन बातों का ध्यान

These things should be kept in mind while buying the idol of Ganesh Laxmi ji in Diwali

हिंदू धर्म में दिवाली का त्योहार खास माना जाता है। दिवाली में लक्ष्मी पूजा का विशेष महत्व है। मान्यता है कि दिवाली की रात शुभ मुहूर्त में पूजा करने से लक्ष्मीजी की कृपा प्राप्त होती है।

शास्त्रों में लक्ष्मी को धन की देवी बताया गया है। कलियुग में लक्ष्मीजी की पूजा को वैभव दाता माना जाता है। दिवाली में लक्ष्मी के साथ-साथ गणेश जी की भी पूजा की जाती है।

अगर आप धनतेरस में गणेश-लक्ष्मीजी की मूर्ति खरीदने जा रहे हैं तो कुछ बातों का विशेष ध्यान रखें। कई बार लोग उचित जानकारी के अभाव में मूर्तियों को खरीद कर घर ले आते हैं,

जिससे पारिस्थितिक त्रुटियां या अन्य समस्याएं होती हैं। तो दिवाली पूजा में गणेश लक्ष्मी की मूर्ति खरीदते समय इन बातों का रखें ध्यान-

मूर्ति कैसी है?
एक दूसरे से जुड़े लक्ष्मी गणेश को नहीं खरीदना चाहिए, यह शुभ नहीं माना जाता है। दोनों देवता अलग-अलग होने चाहिए।

लक्ष्मीजी का स्थान
श्री गणेश जी के दाहिनी ओर माता लक्ष्मी विराजमान हैं। दूसरे शब्दों में सामने से देखने पर गणेश जी को लक्ष्मीजी के दाहिनी ओर रखा जाएगा।

गणेशजी की सूंड का रखें ख्याल
गणपति जी के सूंड का भी बहुत महत्व है। गणपति की मूर्ति में उनकी सूंड बाईं ओर मुड़ी होनी चाहिए। दाहिनी ओर मुड़ा हुआ तना तांत्रिक साधना के लिए उपयुक्त होता है।

मैंने कई मूर्तियों में देखा है कि सूंड में दो वक्र होते हैं, ऐसी मूर्तियों को नहीं लेना चाहिए।

गणेशजी की मूर्ति है शुभ
मूर्ति खरीदते समय आपके हाथ में मोदक हमेशा होना चाहिए। ऐसी मूर्तियों को सुख-समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। इस मोदक को बाएं हाथ में धारण करना बहुत ही शुभ होता है।

दूसरे  में गणेश जी के बाएं हाथ को मोदक या लड्डू की ओर मोड़ना बहुत शुभ होता है।

मूषक वाहन
यह ध्यान रखना चाहिए कि गणेश की उपस्थिति भी बहुत महत्वपूर्ण है।

कोई मूर्ति खरीदें
प्लास्टर ऑफ पेरिस की मूर्तियां आजकल बाजार में अधिक उपलब्ध हैं। लेकिन मिट्टी की मूर्ति लेना शास्त्र सम्मत है। यदि आपको एक अच्छी आकर्षक मिट्टी की मूर्ति मिल जाए, तो आपको उसे चुनना होगा।

लक्ष्मीजी की ऐसी मूर्ति न खरीदें
लक्ष्मी की मूर्ति खरीदते समय इस बात का ध्यान रखें कि कमल पर बैठी मूर्ति को उल्लू पर नहीं खरीदना चाहिए। बाराद के सिक्के में माता लक्ष्मी का हाथ होना चाहिए और उस हाथ से धन की वर्षा हो रही है।

आशीर्वाद देने वाली माता की मूर्ति हो तो उनकी कृपा से दरिद्रता का नाश होगा।

घर लाएं लक्ष्मी गणेश की ऐसी मूर्ति
जहां लक्ष्मी गणेश विराजमान हों वहां मूर्ति नहीं लेनी चाहिए। इस भावना के साथ एक मूर्ति कि देवता आराम से अपना आसन ग्रहण करें और उन्हें आशीर्वाद दें, अच्छा है।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button