दूधो नहाओ पूतों फलो का आशिर्वाद देकर एक बाबा जी फंस गये थे

मानो या ना मानो आपात काल के दौरान ... दूधो नहाओ पूतों फलो का आशिर्वाद देकर एक बाबा जी फंस गये थे

मानो या ना मानो : असल मे उनके इस प्रतापी आशिर्वाद को परिवार नियोजन कार्यक्रम का विरोध मान लिया गया था लिहाजा उन्हे गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया बाद मे जैसे तैसे माफी मांगकर बाबा जी जेल से छूटे और जब तक इंदिरा जी जीवित रहीं बाबा ने गल्ति से भी कभी किसी को दूधो नहाओ पूतो फलो का आशिर्वाद नही दिया

अब आशिर्वाद की ऐसी तैसी करने वाला एक और किस्सा सुन लीजिये

वी पी सिंह की सरकार ने मंडल आयोग की सिफारिशों को लागू करने का फैसला कर लिया था इस फैसले को लेकर सवर्णो मे व्यापक गुस्सा था जगह जगह आंदोलन हो रहे थे इसी दौरान खबर मिली कि मंडल आयोग की सिफारिशों का विरोध कर रहे हरिद्वार के कुछ साधुगण वी पी सिंह से मिलने के उद्देश्य से दिल्ली आने वाले हैं

इसके बाद जो भी साधू दिल्ली के आस पास दिखा उसे पकड़ लिया गया बाद मे दो दर्जन से ज्यादा साधुओं को बस मे भरकर हरियाणा वार्डर पर इस चेतावनी के साथ छोड़ा गया था कि यदि दुबारा दिल्ली का रुख किया तो सीधे तिहाड़ जेल भेजे जाओगे

कहने का तात्पर्य यह है कि यदि आपका आशिर्वाद सरकार को सूट करेगा तो आप वचे रहेगे और यदि आपका कोई भी आशिर्वाद सरकार की मंशा के खिलाफ हुआ तो आपको बाबा रामदेव की तरह सलवार कुर्ता पहिनकर रामलीला मैदान से भागना पड़ेगा ..

बहरहाल सूबे मे उपचुनावो के मद्देनजर टिकट हासिल करने से लेकर चुनाव जीतने तक के लिये नाना प्रकार के आशिर्वादो की दरकार रहेगी इसके लिये आशिर्वाद रैलियां भी निकाली जायेंगी और किसान . वेरोजगारों और भ्रष्टाचार से परेशान लोंगो से कहा जायेगा कि जनसेवा के लिये आशिर्वाद दीजिये

फिलहाल आम जन को सलाह दी जाती है कि वे भगवान भोलेनाथ की भांति भस्मासुर को आशिर्वाद देने की गल्ति ना करें ..आगे राम जाने

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button