snn

rail यात्रा के दौरान बस ये एक गलती आपको पहुंचा सकती है जेल! जान लें यह जरूरी नियम

rail यात्रियों के लिए महत्वपूर्ण खबर। ट्रेन से लाखों लोग यात्रा करते हैं क्योंकि rail की जरूरत आम लोगों को होती है। जिससे लोगों को 10 मिनट रुकने पर भी कई जगह दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

तो सोचिए अगर आपकी एक छोटी सी गलती से यह जीवन रेखा क्षतिग्रस्त हो जाए तो आपको कितनी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। वास्तविक rail में एक आपातकालीन श्रृंखला होती है, जो rail को रुकने के लिए खींचती है।
यह आपातकालीन श्रृंखला क्या है?
आपात स्थिति में चलती rail को रोकने के लिए प्रत्येक गाड़ी में एक चेन लगाई जाती है, जो rail को रुकने के लिए खींचती है।

लेकिन कई बार लोग बिना किसी इमरजेंसी के जंजीर खींचते नजर आते हैं. अनजाने में हुई मानवीय त्रुटि पूरे रेल नेटवर्क को प्रभावित करती है, इसलिए इसे रोकने के लिए कुछ सख्त नियम बनाए गए हैं।
क्या हैं रेलवे के नियम?
रेलवे का कहना है कि बिना आपात स्थिति के चेन खींचना अपराध है। इस नियम का उल्लंघन करने पर जुर्माना या जुर्माना हो सकता है।

रेलवे अधिनियम की धारा 141 के तहत, यदि कोई यात्री बिना उचित और पर्याप्त कारण के अलार्म की चेन खींचता है, तो उस व्यक्ति को 1000 रुपये का जुर्माना या एक साल की कैद या दोनों हो सकते हैं।

अपराध है तो जंजीर क्यों नहीं खोलते?
ऐसे में अगर आपके मन में यह सवाल आता है कि जब इतना गलत था तो यह जंजीर क्यों बंधी थी। या फिर जब आप जंजीर में बंधे हों और आपके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही हो, तो इसका भी यही जवाब है।

आइए जानें कि किन परिस्थितियों में आप ट्रेन की चेन खींच सकते हैं?

इस स्थिति में ट्रेन में चेन खींचने की अनुमति है।
यदि कोई यात्री, जिसकी आयु 60 वर्ष से अधिक है या कोई बच्चा छूट जाता है और ट्रेन चलने लगती है।
ट्रेन में आग लग गई।
बुजुर्ग या विकलांग लोगों को ट्रेन में चढ़ने और उतरने में समय लगता है।
अचानक गाड़ी में सवार कोई बीमार पड़ जाता है (स्ट्रोक या हार्ट अटैक)।
ट्रेन में चोरी या डकैती के मामले में।

Mahindra Cars Price April 2022: महज 2 मिनट में पढ़ें महिंद्रा की सभी 10 गाड़ियों की नई कीमतें

जानना ज़रूरी है
इतना कुछ जानने के अलावा यह जानना भी जरूरी है कि चेन खींचने पर ट्रेन कैसे रुकती है। दरअसल ट्रेन की चेन ट्रेन के मेन ब्रेक पाइप से जुड़ी होती है। इन पाइपों में वायुदाब बना रहता है। लेकिन जैसे ही जंजीर खींची जाती है यह हवा बाहर आ जाती है। वायुदाब में इस कमी के कारण ट्रेन की गति कम हो जाती है, तो लोको पायलट तीन बार हॉर्न बजाकर ट्रेन को रोक देता है। इस प्रक्रिया में कुछ समय लगता है।

दो बार prime minister बनने के बाद अब क्या चाहते हैं? विपक्षी नेता के सवाल पर पीएम मोदी ने दिया ये जवाब

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button