IAS POWER : आईएएस अधिकारी के पास होती है इतनी पॉवर की जान कर चौंक जाएंगे, सिर्फ राष्ट्रपति ही कर सकते है निलंबित !

Work of IAS and their powers: हर साल यूपीएससी के नतीजे मीडिया की सुर्खियां बनते हैं। इसमें टॉप करने वालों के आईएएस और आईपीएस बनने की काफी चर्चा होती है। 1 साल की ट्रेनिंग के बाद ये सफल उम्मीदवार भी फील्ड में काम करना शुरू कर देते हैं, हम में से ज्यादातर लोग IAS और IPS शब्द बहुत सुनते हैं, हम उनकी स्थिति भी जानते हैं, लेकिन उनसे जुड़ी कुछ ऐसी बातें हैं जो हर कोई नहीं जानता है। इस मामले में सबसे अहम है उनका काम। तमाम कार्यों को करने के लिए उन्हें कुछ शक्तियां भी दी जाती है आज हम आपको बताएंगे कि IAS की पॉवर और उनकी जिम्मेदारियां क्या होती हैं।

पहले पोस्टिंग का तरीका जानें

IAS POWER : आईएएस अधिकारी के पास होती है इतनी पॉवर की जान कर चौंक जाएंगे, सिर्फ राष्ट्रपति ही कर सकते है निलंबित !
Photo: Social Media

सिविल सेवा में सर्वोच्च रैंक आईएएस है। प्रशिक्षण के बाद, आईएएस को उनके कैडर में भेजा जाता है और उन्हें एक विशेष क्षेत्र या विभाग की जिम्मेदारी सौंपी जाती है। एक आईएएस अधिकारी के लिए पहली पोस्टिंग सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट के रूप में होती है। उसके बाद उन्हें डीएम और डिप्टी कमिश्नर नियुक्त किया जाता है। केंद्रीय और राज्य सचिवालय पदों पर केवल आईएएस अधिकारियों की नियुक्ति होती है। वहां ये अधिकारी पीएसयू प्रमुख के रूप में काम करते हैं। जिला स्तर पर काम करने के अलावा, आईएएस अधिकारी कैबिनेट सचिवों के साथ-साथ संयुक्त सचिव, उप सचिवों के रूप में भी काम करते हैं।

कार्य और शक्तियां

IAS POWER : आईएएस अधिकारी के पास होती है इतनी पॉवर की जान कर चौंक जाएंगे, सिर्फ राष्ट्रपति ही कर सकते है निलंबित !
Photo credit : Pinterest

IAS अधिकारियों को राजस्व संबंधी कार्य जैसे राजस्व संग्रह आदि करना होता है। वह जिले में कानून और व्यवस्था बनाए रखने, कार्यकारी मजिस्ट्रेट के रूप में कार्य करने, मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) या जिला विकास आयुक्त के रूप में कार्य करने, जिले में राज्य सरकार और केंद्र सरकार की नीतियों को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए जिम्मेदार होते है। नीतियों की निगरानी के लिए औचक निरीक्षण करने, सरकार को संयुक्त सचिव, उप सचिव के रूप में नीति निर्माण में सलाह देने और नीतियों को अंतिम रूप देने के कार्य भी करते हैं।

यह भी पढ़ें : देश की सबसे खूबसूरत IAS अफसर, 23 साल की उम्र में बनीं IAS, सीएम दफ्तर में नियुक्ति मिली

जब आईएएस डीएम की भूमिका में होते है, तो जिले के सभी विभागों के प्रभारी होते हैं। वह डीएम के रूप में पुलिस विभाग के साथ-साथ अन्य विभागों के भी प्रमुख होते है। वह जिला में निषेधाज्ञा , धारा 144 और कानून व्यवस्था से संबंधित सभी निर्णय लेते है। भीड़ के खिलाफ कार्रवाई या फायरिंग जैसे आदेश भी डीएम दे सकते हैं. यदि डीएम को जिले के किसी भी कार्य में कोई लापरवाही मिलती है तो वह कर्मचारी को बर्खास्त भी कर सकता है और उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा सकता है. दूसरी ओर, केवल राष्ट्रपति के पास IAS को बर्खास्त करने की शक्ति होती है। यह कार्रवाई कोई और नहीं कर सकता।

IAS के पद

IAS POWER : आईएएस अधिकारी के पास होती है इतनी पॉवर की जान कर चौंक जाएंगे, सिर्फ राष्ट्रपति ही कर सकते है निलंबित !
Photo : Social Media

एक आईएएस अधिकारी को एसडीओ, एसडीएम, संयुक्त कलेक्टर, मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ), डीएम, डीसी, उपायुक्त, मंडलायुक्त, राजस्व बोर्ड के सदस्य और राजस्व बोर्ड के अध्यक्ष जैसे पद मिल सकते हैं। अनुभव के आधार पर केंद्र में भी आईएएस पदों पर नियुक्ति की जा सकती है।

यह भी पढ़ें : 3.5 फीट की IAS officer Aarti Dogra से सीखें कैसे पूरा करते हैं सपना, जानें पूरी कहानी

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button