चीतों को लाने के लिए नामीबिया पहुंचा स्पेशल विमान, PM Modi जन्मदिन पर देश को सौंपेंगे 8 अफ्रीकी चीते

प्रोजेक्ट चीता पर इन सभी चीतों(Tigers) को एक ही दिन दो हेलीकॉप्टरों(Helicopters) से कूनो(Kuno) ले जाया जाएगा और प्रधानमंत्री मोदी(PM Modi) उन्हें क्वारंटाइन सेंटर(Quarantine Center) से पार्क तक छोड़ देंगे। उच्च न्यायालय(High Court) के चीतों को लाने के लिए नामीबिया में एक विशेष भारतीय विमान(Indian aircraft) पहुंच गया है। इस विशेष तल पर चीता को खूबसूरती से चित्रित किया गया है। प्रोजेक्ट चीता 17 सितंबर प्रधानमंत्री मोदी(PM Modi) का जन्मदिन है। इस साल प्रधानमंत्री मोदी(PM Modi) का जन्मदिन खास होने वाला है। आज के दिन सात दशक बाद चीता(Tiger) की टीम भारत में उतरने जा रही है। नामीबिया(Namibia) से 70 साल बाद आठ चीते भारत पहुंचेंगे।

Photo By Google

जानकारी के मुताबिक चीतों(Tigers) को सबसे पहले नामीबिया से मालवाहक विमान(Cargo Plane) से जयपुर(Jaipur) लाया जाएगा। फिर उसी दिन वह इसे हेलीकॉप्टर से मध्य प्रदेश(MP) के कुनो-पालपुर राष्ट्रीय उद्यान ले आए। जिसे प्रधानमंत्री मोदी(PM Modi) अपने जन्मदिन(Birthday) पर देश को सौंपेंगे। नामीबिया(Namibia) में भारत के उच्चायोग ने ट्वीट किया कि शुभचिंतकों(Well Wishers) को बाघों की धरती पर ले जाने के लिए बहादुर के देश में एक विशेष पक्षी दूत(Bird Messenger) आया है।

Photo By Google

चीता की तस्वीरें जारी, 3 नर और 5 मादा
भारत(India) आने वाले इन 8 चीतों की तस्वीरें(Photos) जारी की गई हैं। इनमें तीन नर और पांच मादा हैं। इनकी उम्र ढाई से साढ़े पांच साल के बीच है। यह भी ज्ञात है कि उनमें से दो सगे भाई हैं और नामीबिया(Namibia) में एक निजी रिजर्व में रहते हैं। चीतों को भारत(India) लाने की परियोजना में शामिल संगठन चीता संरक्षण कोष ने एक बयान जारी कर कहा कि चीतों में से आठ नर(Male) और पांच मादा(Female) हैं। इनकी उम्र साढ़े चार साल, एक दो साल की, एक ढाई साल की और एक तीन से चार साल की बताई जा रही है।

Photo By Google

 इसे भी पढ़े-नवरात्रि पर Central Employees को बड़ा तोहफा देने की तैयारी में सरकार, 27000 रु तक बढ़ सकती है सैलरी

चीतों को कुनो राष्ट्रीय उद्यान में छोड़ा जाएगा
प्रधानमंत्री मोदी(PM Modi) 17 सितंबर (शनिवार) को अपने जन्मदिन पर श्योपुर(Sheopur) के कराहल जा रहे हैं। यहाँ वह कुनो नेशनल पार्क(Kuno National Park) में नामीबियाई चीतों को देखता है। संगरोध बाड़े में ले जाएँ। इसके अलावा कराहले में अजिबिका मिशन के स्वयं सहायता समूहों(Self Help Groups) में शामिल होकर स्वयं सहायता बहनों का सम्मेलन आयोजित किया गया। 

Article By Sunil

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button