इस भैंस की खूबियों को देख PM Modi भी नहीं रोक पाए खुद को तारीफ करने से

पीएम मोदी(PM Modi) ने दुनिया भर से आए मेहमानों के सामने गुजरात के कच्छ में पाई जाने वाली बनी भैंस के गुण भी बताए. पीएम मोदी(PM Modi) ने कहा कि भारत में डेयरी क्षेत्र की एक विशेषता गाय और भैंस की स्थानीय नस्लें हैं, जो कि सबसे कठिन जलवायु में भी जीवित रहने के लिए जानी जाती हैं। इसकी अधिक विशेषताओं के बारे में बताते हुए पीएम मोदी(PM Modi) ने कहा, “विदेश से आए हमारे दोस्त भी यह जानकर चौंक जाएंगे कि उस समय बन्नी भैंस के साथ कोई उनका पालक या किसान नहीं होता है। वह खुद गांव के पास बने चरागाह में जाती है। वहां कम है।

Photo By Google

 

मरुस्थल में पानी है, तो बहुत कम पानी में बनी भैंस का काम चलता है। बनी भैंस रात में 10-15 किलोमीटर चलने के बाद भी सुबह अपने आप आ जाती है। ऐसा कम ही सुनने में आता है कि किसी की बनी भैंस खो गई हो या गलत घर में चला गया है।

Photo By Google

पीएम मोदी(PM Modi) ने दुनिया भर से आए मेहमानों के सामने गुजरात के कच्छ में पाई जाने वाली बनी भैंस के गुण भी बताए. पीएम ने कहा कि भारत में डेयरी क्षेत्र की एक विशेषता गाय और भैंस की स्थानीय नस्लें हैं, जो कि सबसे कठिन जलवायु में भी जीवित रहने के लिए जानी जाती हैं।

मैं आपको गुजरात की बनी भैंस का उदाहरण देता हूं, जिसे देखकर हैरानी होती है कि यह कच्छ के रेगिस्तान और वहां के हालात के साथ मिल गई है। दिन बहुत गर्म है, धूप है। इसलिए यह बनी भैंस रात में चरने के लिए निकलती है।

Photo By Google

इसे भी पढ़े- अब आपकी भैंस का भी बनेगा आधार कार्ड, PM मोदी ने अंतरराष्ट्रीय डेयरी सम्मेलन में कही ये बात

पीएम मोदी(PM Modi) ने कहा कि मैंने केवल बनी भैंस का उदाहरण दिया है, लेकिन भारत में मुर्राह, जाफराबादी, नीली रवि, पंदरपुरी जैसी कई नस्लें अपने तरीके से विकसित हो रही हैं। इसी प्रकार गाय में गिर गाय, साईवाल, राठी, कांकराटे, धारपारकर, हरियाणा कई ऐसी गायों की नस्लें हैं जो भारत के डेयरी क्षेत्र को विशिष्ट बनाती हैं। भारतीय नस्ल के अधिकांश जानवर मौसम के अनुकूल होते हैं।

Article By Chanda

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button