corona का स्थायी इलाज मिल गया वैज्ञानिकों को,अब दफन होगा कोरोना

Scientists have found permanent cure for corona,

नई दिल्ली: कोरोना (corona) महामारी को दुनिया में आए दो साल हो चुके हैं, लेकिन अभी तक इसका कोई पुख्ता इलाज नहीं मिल पाया है. दुनिया भर के वैज्ञानिक इसका स्थायी इलाज खोजने में लगे हैं।

एक ऐसी दवा जो न सिर्फ कोरोना वायरस को फैलने से रोकती है बल्कि उसे खत्म भी करती है। वैज्ञानिकों ने अब समुद्र के तल में एक ऐसे पदार्थ की खोज की है जो कोरोना का स्थायी इलाज हो सकता है। यह समुद्र में बड़े पैमाने पर मौजूद है।

अब सवाल यह है कि क्या दुनिया में कोई दवा नहीं है। वैज्ञानिकों का कहना है कि पेनिसिलिन चिकित्सा के इतिहास में सबसे बड़ी खोज थी। यह एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है। लेकिन इलाज का तरीका किसी को पता नहीं था। जब बात आती है तो इतिहास अपने आप बदल जाता है।

इसलिए अब कोरोना (corona)  को हराने के लिए हमें एक ऐसे एंटीवायरल की जरूरत है जो स्वाभाविक रूप से बड़े पैमाने पर मौजूद हो। संयुक्त राज्य खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने समुद्री जानवरों में पाए जाने वाले पदार्थों के उपचार को मंजूरी दे दी है।

इनमें से कई पदार्थ नैदानिक ​​परीक्षणों के विभिन्न चरणों में हैं। वैज्ञानिकों ने हाल ही में समुद्र में ऐसा पदार्थ खोजा है। यह पदार्थ समुद्री शैवाल, विद्रूप और मछली में पाया जाता है। इन्हें समुद्री सल्फेटेड पॉलीसेकेराइड (MSPs) कहा जाता है।

समुद्री सल्फेटेड पॉलीसेकेराइड एक विशेष प्रकार का कार्बोहाइड्रेट है जिसमें बहुत अधिक सल्फर होता है। यह सल्फर समुद्री शैवाल या समुद्री शैवाल कोशिका की बाहरी दीवार में जमा होता है। यह कुछ मछलियों और मैंग्रोव पौधों में भी पाया जाता है।

corona का स्थायी इलाज मिल गया वैज्ञानिकों को

एमएसपी को लेकर वैज्ञानिक लगातार प्रयोग कर रहे हैं। यह दाद सिंप्लेक्स वायरस, एचआईवी, चिकनगुनिया, साइटोमेगालोवायरस, इन्फ्लूएंजा और हेपेटाइटिस वायरस के खिलाफ प्रभावी दिखाया गया है।

जब एमएसपी के रासायनिक कणों के 3डी कंप्यूटर मॉडल बनाए गए तो पता चला कि इससे कोरोना( corona) वायरस का स्पाइक प्रोटीन खत्म हो गया है। यानी यह कोरोना वायरस को नष्ट कर देता है। हेपरिन एमएसपी के समान एक रसायन है।

प्रधानमंत्री को मध्यप्रदेश से मिलेगा अनुपम उपहार, प्रदेश के 75 स्थानों से किया गया इकट्ठा

अब तक की जांच से पता चला है कि यह कोरोना वायरस के खिलाफ बेहद मजबूत है। यह कोरोना (corona) का स्थायी इलाज मिल गया वैज्ञानिकों को वायरस में मौजूद स्पाइक प्रोटीन से बांधता है। यह कोरोना वायरस को सेल में प्रवेश करने से रोकता है। लेकिन समस्या यह है कि हेपरिन एक खून पतला करने वाली दवा है।

इसलिए यह कोविड की दवा के रूप में उपयुक्त नहीं है। पाए गए 45 एमएसपी में से नौ में हेपरिन जैसे गुण हैं, जो उन्हें कोरोना (corona) का स्थायी इलाज मिल गया वैज्ञानिकों को के लिए एक प्रभावी दवा बनाते हैं। इन 9 सामग्रियों का इस्तेमाल भविष्य में कोरोना की स्थाई दवा या वैक्सीन बनाने में किया जा सकता है।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button