SBI ने दी ग्राहकों को खुशखबरी, अब फ्री में मिलेगा आपको ये सर्विस

एसबीआई(Sbi) ने मोबाइल फंड ट्रांसफर में एसएमएस(SMS) फीस को हटा दिया। एसबीआई का कहना है कि एसएमएस(SMS) सेवा उपयोगकर्ता अब आसानी से बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के लेनदेन कर सकते हैं। भारतीय राज्य के ग्राहक, सरकारी क्षेत्र के देश का सबसे बड़ा बैंक(Bank) विभिन्न प्रकार के शुल्क विभिन्न बैंकिंग सेवाओं में से एक जारी किए गए हैं।

Photo By Google

बैंगमार्क बैंक ऋण महंगा हो गया है

देश के 65 प्रतिशत से अधिक मोबाइल फोन(Android Phone) उपयोगकर्ताओं के पास 1 बिलियन से अधिक मोबाइल फोन उपयोगकर्ता हैं। एसबीआई(SBI) ने ग्राहकों को सुविधाजनक बनाने के लिए घर से एक बचत खाता खोलना शुरू कर दिया है। एसबीआई(SBI) अपने ग्राहकों को एक डिजिटल बचत खाता(Digital Saving Account) खोलने की अनुमति देता है, ताकि ग्राहकों को उनके आसपास के स्थानीय बैंक में जाने की आवश्यकता न हो। वे आसानी से कागजात के बिना अपने बैंक खाते(Bank Account) खोल सकते थे। यह सुविधा ग्राहकों को SBI के माध्यम से YONO ऐप द्वारा प्रदान की जाती है।

Photo By Google

फ़ीचर फोन वाले ग्राहकों को लाभ होगा

एसबीआई(SBI) ने ट्वीट किया, ‘मोबाइल फंड ट्रांसफर(Mobile Fund Transfer) पर एसएमएस शुल्क को क्षमा करें! ग्राहक अब आसानी से बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के लेनदेन कर सकते हैं।” जो लोग फ़ीचर फोन(Feature Phone) रखते हैं, वे इस निर्णय से सबसे अधिक लाभान्वित होंगे। USSD या ग्लोबल सिस्टम फॉर मोबाइल कम्युनिकेशन का उपयोग आमतौर पर टॉक टाइम बैलेंस या खाता जानकारी की जांच करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग मोबाइल बैंकिंग(Mobile Banking) लेनदेन(Transaction) में भी किया जाता है। यह सेवा फ़ीचर फोन पर काम करती है। इसलिए फ़ीचर फोन वाले ग्राहकों को लाभ होगा।

Photo By Google

 इसे भी पढ़े-देश के इस अनोखे मंदिर में होती है चोर की पूजा, दर्शन मात्र से घर में कभी नहीं होती चोरी!

 हाल ही में, एसबीआई(SBI) ने अपने बेंचमार्क(Benchmark) प्राइम लेंडिंग रेट में 70 बुनियादी अंक तक बढ़ा दिया है। एसबीआई(SBI) वेबसाइट पर पोस्ट किए गए आंकड़ों के अनुसार, इस वृद्धि के साथ संशोधित दर अब 13.45 प्रतिशत है। नई दर 15 सितंबर से प्रभावी रही है। इस वृद्धि के बाद, इन मानदंडों से जुड़े बैंक ऋण(Loan) महंगे हो गए हैं।

Article By Sunil

 

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button