दो आतंकियों को ढेर करने के बाद माँ भारती की गोद में सो गया सतना का सपूत

दो आतंकियों को ढेर करने के बाद आज सतना जिले के रहने वाले बहादुर जवान कर्णवीर सिंह शहीद हो गए शहर के उतैली इलाके में रहने वाले इस बहादुर जवान का आज जन्मदिन भी है शहादत की खबर आने के बाद ना सिर्फ सतना बल्कि पूरा देश गमगीन है

सतना 20अक्टूबर । कश्मीर के सोपियां में बुधवार को हुई आतंकियों से मुठभेड़ में सतना के 26 वर्षीय वीर सपूत कर्णवीर सिंह राजपूत शहीद हो गए है । यह खबर शाम ढलते ही जिले मे आग की तरह फ़ैल गई । वीर सपूत कर्णवीर सिंह राजपूत ने भारत माता की रक्षा मे प्राणों की आहुति देकर इस विंध्य धरा , मध्य प्रदेश और पूरे हिंदुस्तान का मस्तक एक बार फिर गर्व से ऊंचा कर दिया है

शहर के उतैली इलाके मे वार्ड क्रमांक 22 के निवासी शहीद कर्णवीर सिंह २२वीं राजपूत रेजिमेंट 44RR के जवान थे, जानकारी के मुताबिक आज सुबह कश्मीर के सोपिया में आतंकियों के साथ मुठभेड़ शुरू हो गई जिसमे  मां भारती के लाल सतना जिले के रहने वाले 26 वर्षीय कर्णवीर सिंह शहीद हो गए ,शहादत से पहले मां भारती के इस वीर ने आतंकियों का डटकर मुकाबला किया और दो आतंकियों को ढेर कर दिया लेकिन इस दौरान मां भारती के इस वीर को भी गोलियां लग गई जिसके बाद वीरगति को प्राप्त हो गए, कर्णवीर सिंह राजपूत ने अपना अदम्य साहस, शौर्य और वीरता दिखाते हुए सर्वोच्च बलिदान दिया है

दो आतंकियों को ढेर करने के बाद माँ भारती की गोद में सो गया सतना का सपूत
शहीद कर्णवीर सिंह

अमर शहीद बलिदानी कर्णवीर सिंह राजपूत के पिता रवि कुमार सिंह भी सेना में थे उन्होंने 30 वर्षो तक भारत मां की सेवा की पिता रविकुमार सिंह सूबेदार मेजर रहे और 2017 में रिटायर हो कर अपने पुत्र शहीद कर्णवीर को भारत मां की सेवा में भेजा था। शहीद कर्णवीर की मां का नाम मिथलेश सिंह है।
शहीद कर्णवीर सिंह राजपूत का पत्रक गांव दलदल है .

बताया गया कर्णवीर तकरीबन दो माह पहले सतना से गए थे इनकी ट्रेनिंग फतेहगढ़ ट्रेनिंग सेंटर राजपूत रेजीमेंट में हुई ,आज इस मां भारती के लाल का जन्मदिन भी था जैसे ही यह खबर उनके परिवारजनों पर तक पहुंची तो मानो जैसे दुखों का पहाड़ टूट पड़ा हो लेकिन मां भारती की सेवा करते हुए वीरगति को प्राप्त करने वाले वीर पर सभी को नाज है

दो आतंकियों को ढेर करने के बाद माँ भारती की गोद में सो गया सतना का सपूत
शहीद के पिता रविकुमार सिंह

बेटे की शहादत की खबर मिलने पर पिता ने मीडिया से बात करते हुए कहा की उन्हें गर्व है की उनके बेटे ने भारत माता की रक्षा करते हुए अपने प्राण न्यौछावर किए है। उन्होंने बताया कि मेरी तबियत को लेकर चिंतित रहता था मंगलवार को रात में बात हुई थी तो उसने कहा था कि अबकी बार छुट्टी में आऊंगा तो किसी अच्छे डॉक्टर के पास चलेंगे ।

जिला प्रसाशन ने बताया की शहीद कर्णवीर सिंह की पार्थिव देह गुरुवार को पहले जम्मू से दिल्ली और फिर वहां से सतना लाई जाएगी , शहीद का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव दलदल (रामपुर) में पूरे राजकीय सम्मान एवं भारतीय सेना के प्रोटोकॉल के अनुसार किया जायेगा, प्रसाशन इसकी तैयारी में जुट गया .

संवाददाता नरेंद्र कुशवाहा

संवाददाता सतना न्यूज डॉट नेट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button