भारत की अनोखी नदी जिसमें बहता है Gold, कहां से आता हैं इसपर बना हुआ रहस्य!

भारत(India) में एक ऐसी नदी है जिसमें सोना(Gold) बहता है और लोग उसे इकट्ठा भी करते हैं। हैरानी की बात यह है कि किसी को नहीं पता कि नदी में सोना(Gold) आता कहां से है। हम जिस नदी(River) की बात कर रहे हैं वह झारखंड(Jharkhand) में बहती है और इसका नाम स्वर्ण रेखा है। इस नदी के आसपास रहने वाले लोग यहां से सोना(Gold) निकालकर अपनी आजीविका चलाते हैं। सोना(Gold) निकलने के कारण इस नदी को सोने की नदी(Golden River) भी कहा जाता है। भारत में मौजूद धातुओं की बात करें तो सोने का नाम सबसे ऊपर आता है। सोना(Gold) सबसे महंगी और सबसे ज्यादा बिकने वाली धातु है। महिलाओं को सोने के आभूषण पहनना बहुत पसंद होता है और कई लोग अपनी बचत(Saving) का एक बड़ा हिस्सा सोना(Gold) खरीदने में खर्च कर देते हैं। लेकिन अब जरा सोचिए अगर आप किसी नदी में सोना बहते हुए देखें। आप सोच रहे होंगे कि ऐसा सोना(Gold) कैसे मिलता है।

Photo By Google

झारखंड(Jharkhand) में ऐसे स्थान हैं जहां स्थानीय आदिवासी सुबह इस नदी(River) में जाते हैं और पूरा दिन सोने के कणों को इकट्ठा करने के लिए रेत(Sand) खोदने में बिताते हैं। इस काम में कई पीढ़ियां लगी हुई हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि सैकड़ों साल बाद भी वैज्ञानिक(Scientist) यह पता नहीं लगा पाए कि इस नदी में सोना(Gold) क्यों बहता है। भूवैज्ञानिकों का तर्क है कि यह नदी सभी चट्टानों से होकर गुजरती है। इस समय सोने के कण घर्षण से उसमें घुल जाते हैं। नदियों से सोना(Gold) निकालना बहुत मुश्किल काम है।

Photo By Google

नदी के पानी के साथ सोने के प्रवाह के कारण इसे गोल्डलाइन नदी(Goldline River) के रूप में जाना जाता है। स्वर्णरेखा नदी का उद्गम रांची से लगभग 16 किमी दूर है। इसकी कुल लंबाई 474 किमी है। यह नदी झारखंड, पश्चिम बंगाल और ओडिशा(Odisha) के कुछ हिस्सों से भी बहती है। गोल्ड लाइन और उसकी सहायक नदियों में सोने के कण पाए जाते हैं। लोगों का मानना ​​है कि सोने के कण करकरी नदी से बहने के बाद ही सोने की रेखा नदी में पहुंचते हैं। इन दोनों नदियों में सोने के कण कहां से आते हैं यह एक रहस्य)Secret) बना हुआ है।

Photo By Google

 इसे भी पढ़े-कितने पढ़े लिखे हैं आपके चहेते Prime minister नरेंद्र मोदी, बर्थडे पर जानिए खास बात

नदी की रेत से सोना इकट्ठा करने के लिए लोगों को दिन भर मेहनत(Hardwork) करनी पड़ती है। नदी(River) में पाए जाने वाले सोने के कण चावल के दाने के बराबर या उससे छोटे होते हैं। तमाड़ और सारंडा जैसे क्षेत्र हैं जहां पुरुष, महिलाएं और बच्चे सुबह उठकर नदी(River) से सोना इकट्ठा करते हैं। अगर आप इस नदी के चारों ओर घूमते हैं, तो आप हर जगह महिलाओं को सूप के साथ खड़े देख सकते हैं।

Article By Sunil

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button