4000 करोड़ के महल में रहते हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया, इतनी संपत्ति है जितना कई राज्यों का बजट भी नही

4000 करोड़ Jyotiraditya Scindia lives in a palace

मध्य प्रदेश डेस्क  : देश में ज्यादातर लोग पैसे के मामले में अंबानी का ही नाम जानते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि अंबानी राजनीति में कौन हैं? नहीं… तो इस लेख को पूरा पढ़ें, क्योंकि आज हम आपको बताएंगे कि भारतीय राजनीति के महाराजा( 4000 करोड़) कौन हैं।

कौन हैं वो राजनेता जिनके नाम की कीमत हजारों (4000  करोड़ )रुपए है। वह नेता कोई और नहीं बल्कि कांग्रेस से बीजेपी में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया हैं। जी हां… ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम लगभग हर देशवासी जानता है,

मध्य प्रदेश में उन्हें महाराज भी कहा जाता है। महाराज क्योंकि इतिहास के पन्नों में सिंधिया वंश के राजा को महाराज और उसी वंश के पुत्र ज्योतिरादित्य सिंधिया को अब महाराज भी कहा जाता है। एक अनुमान के मुताबिक उनकी कुल संपत्ति 379 करोड़ रुपये है।

4000 करोड़ के महल में रहते हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया, इतनी संपत्ति है जितना कई राज्यों का बजट भी नही

ज्योतिरादित्य सिंधिया को उनकी संपत्ति अपने पूर्वजों से विरासत में मिली थी। हालांकि बाकी की संपत्ति सिंधिया ने खुद अधिग्रहित की है। सिंधिया के पास श्रीगोंडा, महाराष्ट्र में 19 एकड़ और लिम्बन गांव में 53 एकड़ जमीन भी है।

दूसरी ओर, ज्योतिरादित्य सिंधिया के पास रानी महल, हिरणबन कोठी, रैकेट कोर्ट, शांतिनिकेतन, छोटा शांति, विजय भवन, पिकनिक स्पॉट, बूट बंगला, रेलवे कैरिज बेल हाउस, इलेक्ट्रिक पावर हाउस रोशनी घर जैसी आवासीय संपत्तियां भी हैं।

आज इन संपत्तियों की कीमत करीब 2 हजार 98 करोड़ अड़तालीस हजार पांच सौ रुपए है। ग्वालियर में जॉय बिलास पैलेस के अलावा, दिल्ली में सिंधिया विला, ग्वालियर हाउस, मुंबई में बशुंधरा बिल्डिंग, पुणे में पद्मबिलास पैलेस, शिवपुरी में जॉर्ज कैसल और माधव विला पैलेस, उज्जैन में कालियादेह पैलेस हैं।

मंदिर भी हैं। शाही परिवार से ताल्लुक रखते हैं महाराजा सिंधिया…
1947 में जब देश आजाद हुआ तो रजवाड़ा व्यवस्था भी खत्म हो गई। लेकिन सिंधिया राजवंश की राजशाही जारी रही और जारी रही।

ग्वालियर में सिंधिया का किला, जिसे जॉय बिलास पैलेस कहा जाता है। जो इसे देखता है, वह सुंदरता में भी सबसे ऊपर और लंबाई-चौड़ाई में भी इसे देखता रहता है। मेरा मतलब है कि अगर आप इस किले को देखते हैं, तो आप सोच रहे होंगे कि देश में इतना बड़ा किला और क्या है?

ज्योतिरादित्य सिंधिया शाही परिवार के सदस्य थे। मध्य प्रदेश में सिंधिया वंश का शासन था। ज्योतिरादित्य सिंधिया के जॉय बिलास महल में कुल 400 कमरे हैं। जॉय बिलास पैलेस की कीमत है 4000 करोड़ से ज्यादा…
ज्योतिरादित्य सिंधिया का जॉय बिलास पैलेस (4000 करोड़ )ग्वालियर शहर के मध्य में स्थित एक विशाल महल है।

इस महल की कीमत चार हजार करोड़ रुपये से भी ज्यादा है। महल में कुल 400 कमरे हैं। हां…400 कमरे..राष्ट्रपति भवन (340) में भी इतने कमरे नहीं हैं। आपको बता दें कि जॉय लग्जरी पैलेस प्रिंस जॉर्ज और प्रिंसेस मैरी के स्वागत के लिए बनाया गया था।जॉय लग्जरी पैलेस कब बनाया गया था?

1874 में इस विशाल सिंधिया महल का निर्माण शुरू हुआ। उस समय जयाजी राव सिंधिया महाराज के पद पर थे। इस विशाल महल को ब्रिटेन के सर माइकल फिलोस ने डिजाइन किया था। इस समय प्रिंस जॉर्ज और प्रिंसेस मैरी 1876 में भारत आए थे।

इस महल की आंतरिक साज-सज्जा को 560 किलो सोने से सजाया गया है। महल के डाइनिंग हॉल में एक चांदी की ट्रेन है जिसका उपयोग भोजन परोसने के लिए किया जाता है। वहीं, इसके 40 कमरों को अब संग्रहालय में तब्दील कर दिया गया है।

इस महल का दरबार हॉल काफी प्रसिद्ध है। इस महल में 1964 में जीवाजीराव सिंधिया संग्रहालय खोला गया था। जॉय बिलास पैलेस (4000 करोड़) के अंदर कई दिलचस्प चीजें हैं, जिनमें उस समय के हथियार, उन्नीसवीं शताब्दी में इस्तेमाल किए जाने वाले डॉली-बाघ शामिल हैं।

रानी कमलापति हिंदू थी या मुसलमान ? पढ़िए राज्यसभा सांसद के सवाल पर क्या मिला जवाब

महल की दीवारों को सोने और चांदी से उकेरा गया है। यहाँ दो बड़े लालटेन हैं। जिसका वजन करीब 3500 किलो है। इस महल (4000 करोड़) में औरंगजेब और शाहजहाँ की तलवारें भी रखी हुई हैं। इस महल की ट्रस्टी ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी प्रियदर्शिनी राजे सिंधिया हैं।

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button