अपनी मूंछ पर ताव देती है यह महिला, लोग उड़ाते हैं मजाक लेकिन इसलिए नहीं कटवातीं

भारत के दक्षिणी राज्य केरल के कनूर की रहने वाली 35 साल की महिला ऐसी है जो मूंछ रखती है. ये मूंछ के बिना रहने की कल्पना भी नहीं करती, उनके मूंछ रखने का क्या कारण है? वह मूछ क्यों नहीं कटवाई ? इसका कारण काफी दिलचस्प है. लड़कों के टीन एज में आते-आते उनकी बियर्ड और मूंछ आने लगती है. आजकल फिल्म स्टार्स ने दाढ़ी-मूंछ के क्रेज को इतना अधिक बढ़ा दिया है कि हर लड़का बियर्ड और मुस्टैच रखना चहता है.

हालांकि, कई बार हार्मोंस बिगड़ने के कारण लड़कों की दाढ़ी मूछ नहीं आती और महिलाओं में हार्मोस बिगड़ने के कारण चेहरे पर अधिक बाल आ जाते हैं, महिलाएं चेहरे पर आए इन बालों को क्रीम, मोम स्ट्रिप्स, रेंजर और एपिलेटर आदि से हटाती है, लेकिन भारत में एक महिला ऐसी भी है जिनकी मूछ है और वह मूंछ रखना पसंद भी करती है कई बार लोगों ने उसका मजाक भी उड़ाया लेकिन उन्होंने गूड नहीं कटवाई, यह महिला कौन है? मूंछ रखने का क्या कारण है? इस बारे में जान लीजिए.

अपनी मूंछ पर ताव देती है यह महिला, लोग उड़ाते हैं मजाक लेकिन इसलिए नहीं कटवातीं
Photo By Google

कौन है यह मूंछ वाली महिला

मूंछ रखने वाली इस महिला का नाम शायजा है जो कि केरल राज्य के कर की रहने वाली है. 35 साल की शाम को कई बार उनके चेहरे और मूंछ के बालों के लिए का पात्र भी बना लेकिन उन्होंने ठान लिया है कि रखेगी एक इंटरव्यू के दौरान शायजा ने बताया, “मुझे मूंछ रखना पसंद है इसलिए में इन्हें नहीं कटवाउंगी।

अपनी मूंछ पर ताव देती है यह महिला, लोग उड़ाते हैं मजाक लेकिन इसलिए नहीं कटवातीं
Photo By Google

कई महिलाओं की तरह शायजा के चेहरे पर अधिक बाल थे वे नियमित रूप से थ्रेडिंग कराती थी लेकिन उन्होंने कभी भी ऊपरी होठ (मूल मा अपर लिप बाल हटाने की जरूरत महसूस नहीं हुई लगभग पांच साल पहले उनकी मूंछ के बाल मोटे होना शुरू हुए थे. शायजा अब बिना मूछों के रहने की कल्पना भी नहीं करती. शायजा ने इंटरव्यू के दौरान बताया, “कोरोना महामारी के दौरान मुझे मास्क पहनना भी पसंद नहीं था क्योंकि हर समय मास्क पहनना पड़ता था मास्क पहनने से मेरी मूंछ ढक जाती थी. कई लोगों ने मुझमे मुंछ कटवाने के लिए कहा लेकिन में इन्हें नहीं कटवाउंगी, मैंने कभी ऐसा भी नहीं किया कि मे सुंदर नहीं हूँ.

आज शायजा की फैमिली और उनकी बेटी उसे काफी सपोर्ट करती है उनकी बेटी आकर कहती है की वो अच्छे से रह रही है . कई बार शायना ने सड़क पर लोगों से अपने लिए जाने भी सुने है लेकिन उन्हें लोगों के मजाक उड़ाने से कोई नहीं पड़ता इस कारण नहीं कटवाना चाहती है.

इस कारण नहीं कटवाना चाहती मूंछ

इंटरव्यू के दौरान अगर मेरे दो जिंदगी होती में एक दूसरों के लिए जी भी मेरी अभी कुल 6. मेंट में एक गांठने की हुई और मारने के लिए हुई मेरी पांच साल पहले एक स्मीथी मेरी भी कोई सर्जरी होती थी तो में है और इसके बाद मुझे भी ऑपरेशन थियेटर में नहीं जाना पड़ेगा इतनी सारी दिक्कत के बाद मुझमें कोन्फिडेंस है और मै खुश हूँ.

घर से बाहर नहीं निकलती थीं शायजा

शायजा के मुताबिक, वे बचपन से ही काफी शर्मीली थी और उनके गांव की महिलाएं शाम 6 बजे के बाद घर से बाहर नहीं निकलती थी. उनके गांव में महिलाओं को घर से निकलने तो दूर घर के बाहर बैठने की भी परमिशन नहीं थी लेकिन जब उनकी शादी हुई तो वे अपने ससुराल तमिलनाडु चली गई. वहां पर उन्हें काफी छूट मिली. उनके पति काम पर जाते थे और अगर उन्हें किसी चीज की जरूरत होती थी. तो वे रात में अकेले दुकान पर चली जाती थी. मैंने अपने दम पर काम करना सीखा और उससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ गया।

महिलाओं को क्यों आती है दाढ़ी-मूंछ

Clevelandclinic के मुताबिक, कुछ महिलाओं के शरीर के कुछ हिस्सों में अधिक बाल आ जाते है. यह बाल होठों के ऊपर, सीट पेट के निचले हिस्से पर होते हैं और समय के साथ मोटे भी हो जाते है. यह भी कह सकते है कि पुरुषों के शरीर के जिन हिस्सों में मोटे बाल होते है महिलाओं के भी उन्हीं हिस्सों में बाल मोटे हो जाते है. मेडिकल भाषा में इस डिश को हिसुटिग (Hirsutism) कहते है शरीर से मेल हॉर्मोन के बढ़ने से या फील हॉर्मोन के काम हो जाने से हार्मोन हो जाता है और कई जगहों पर अनचाहे बाल आ जाते हैं।

इसे भी पढ़े-ITR filing FY 2021-22: वेतनभोगी इसी हफ्ते भर लें अपना ITR, 31 को है अंतिम डेट, भरते समय यह 9 दस्तावेज रखें तैयार

हिर्सुटिज्म एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपके शरीर के कुछ हिस्सों पर अतराल उग आते हटिया में महिलाओं के शरीर पर अनचाहे बाल आने के बाद आवाज भारी हो जाती है, ब्रेस्ट साइज़ कम  हो आता है, मसल्स ग्रोथ हो जाती है. सेक्स ड्राइव बढ़ जाती है, अक्ने जाते है जिन महिलाओं की PCOS की समस्या होती है उनमें से 70-80 प्रतिशत महिलाओं की हिर्सुटिज्म की संभावना होती है. हिर्सुटिज़्म के कई कारण हो सकते हैं. यह कंडीशन पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम, एंड्रोजन का प्रोडक्शन, अधिक मेडिकेशन, मेनापॉज के बाद, कुशिंग सिंड्रोम आदि के कारण हो सकती है. यह कंडिशन भूमध्यसागरीय, हिस्पैनिक, दक्षिण एशियाई या मध्य पूर्व के रहने वाली महिलाओं में अधिक देखी जाती है.

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button