बेटी की शादी की टेंशन खत्म, इस स्कीम में निवेश करने पर मिल जाएंगे 10 से 65 लाख रुपए

बेटी-the-tension-of-s-marriage

नई दिल्ली। अगर आपके घर में भी कोई छोटी लड़की (बेटी) या लड़का है तो उसकी शिक्षा, शादी के लिए पैसों की जरूरत अब आसानी से पूरी की जा सकती है। इसके लिए आपको सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करना होगा।

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 10 साल से कम उम्र की बेटियों के लिए खाता खुलवाया जा सकता है। आप अपनी बेटी के लिए प्रतिदिन 100 रुपये और 416 रुपये की बचत करके 65 लाख रुपये की बचत करके 15 लाख रुपये बचा सकते हैं, जो उसके बेहतर भविष्य के लिए प्रभावी होगा।

जानिए क्या है सुकन्या समृद्धि योजना
सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) लड़कियों के लिए केंद्र सरकार की एक छोटी बचत योजना है। जिसे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ प्रोजेक्ट के तहत लॉन्च किया गया है। सुकन्या छोटी बचत योजना में सबसे अच्छी ब्याज दर योजना है।

बेटी की शादी की टेंशन खत्म, इस स्कीम में निवेश करने पर मिल जाएंगे 10 से 65 लाख रुपए

खाता कैसे खोलें
इस योजना के तहत कोई भी अपनी दो बेटियों के लिए खाता खुलवा सकता है। सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 10 वर्ष की आयु से पहले बेटी के जन्म के बाद न्यूनतम 250 रुपये जमा करके खाता खोला जा सकता है।

खाता कहां खोला जाएगा?
सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खाते किसी भी डाकघर या वाणिज्यिक शाखा की किसी भी स्वीकृत शाखा में खोले जा सकते हैं। लड़कियां इस खाते से 21 साल की उम्र में पैसे निकाल सकती हैं।

आप कितना निवेश कर सकते हैं?
चालू वित्त वर्ष में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत आप सालाना अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा कर सकते हैं। फिलहाल इस पर 7.6 फीसदी ब्याज मिल रहा है। इस प्रोजेक्ट में 4 महीने में 9 साल डबल हो जाएंगे।

जानिए कैसे पाएं 75 लाख रुपये
 अगर आप इस योजना में 3000 रुपये प्रति माह यानी 36000 रुपये प्रति वर्ष निवेश करते हैं, तो आपको 14 साल बाद 7.6% की वार्षिक चक्रवृद्धि में 9,11,574 रुपये मिलेंगे।

21 साल यानी मैच्योरिटी पर यह रकम करीब 15,22,221 रुपए होगी यानी अगर आप रोजाना 100 रुपये बचाकर जमा करते हैं तो आप अपनी बेटी के लिए 15 लाख रुपये का फंड बना सकते हैं।

वहीं, रोजाना 416 रुपये तक की बचत करके आप 65 लाख रुपये जोड़ सकते हैं।

MP के जबलपुर में मिला एक करोड़ रुपयों से भरा बैग, मच गया हड़कंप

यह गणना कब तक चलेगी?
सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के बाद, इसे तब तक जारी रखा जा सकता है

जब तक कि बालिका 21 वर्ष की आयु तक नहीं पहुंच जाती या 18 वर्ष की आयु के बाद उसकी शादी नहीं हो जाती।

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button