वो तीन जातियां जिन्हें मिलता है प्रेसिडेंट की सुरक्षा का जिम्मा, जानने के लिए पढ़िए ये खबर

भारतीय सेना में इन दिनों जाति प्रमाण पत्र की मांग को लेकर बहस चल रही है। इस संबंध में भारतीय सेना की ओर से सफाई भी दी गई है। हम आपको बता दें कि आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने पिछले दिनों इस मुद्दे को उठाया था। उन्होंने कहा कि यह भारत के इतिहास में पहली बार है कि भारतीय सेना में भर्ती के लिए जाति मांगी जा रही है। सेना भर्ती के लिए जाति प्रमाण पत्र मांगा जा रहा है।

वो तीन जातियां जिन्हें मिलता है प्रेसिडेंट की सुरक्षा का जिम्मा, जानने के लिए पढ़िए ये खबर
Photo By Google

इस पर भारतीय ने जवाब दिया कि हमने अग्निपथ योजना के तहत भर्ती में कोई बदलाव नहीं किया है। सेना में भर्ती के दौरान हमेशा जाति और धर्म के प्रमाण पत्र मांगे जाते हैं।

TATA मार्केट में पेश की सबसे बड़ी गाड़ी – इसमें 7-8 नहीं बल्कि पूरे 15 पैसेंजर बैठ पाएंगे, जानें – कीमत..

वो तीन जातियां जिन्हें मिलता है प्रेसिडेंट की सुरक्षा का जिम्मा, जानने के लिए पढ़िए ये खबर
Photo : Social Media

केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए संजय सिंह ने कहा, ‘मोदी सरकार का बुरा चेहरा देश के सामने आ गया है. क्या मोदीजी दलितों/पिछड़ों/आदिवासियों को सेना में भर्ती के लिए योग्य नहीं मानते? मोदीजी आपको “अग्निवीर” या “जातिवीर” बनाना चाहिए। यह पहली बार नहीं है जब सेना में भर्ती को लेकर हंगामा हुआ हो। बता दें कि इस साल गुड़गांव के अहीर युवक ने सड़कों पर प्रदर्शन किया था. उनकी मांग सेना में अहीर रेजिमेंट को बढ़ाने की थी।

राष्ट्रपति के अंगरक्षक भर्ती मामले में सेना की प्रतिक्रिया

वो तीन जातियां जिन्हें मिलता है प्रेसिडेंट की सुरक्षा का जिम्मा, जानने के लिए पढ़िए ये खबर
Photo By Google

वर्तमान में राष्ट्रपति के अंगरक्षकों की नियुक्ति को लेकर गरमागरम बहस चल रही है। इस पर सेना ने भी सफाई दी है। हम आपको बता दें कि तीन जातियों को राष्ट्रपति के अंगरक्षक के रूप में नियुक्त किया जाता है। इन गार्डों को पीबीजी के रूप में जाना जाता है।

इसे भी पढ़े-IAS POWER : आईएएस अधिकारी के पास होती है इतनी पॉवर की जान कर चौंक जाएंगे, सिर्फ राष्ट्रपति ही कर सकते है निलंबित !

जाटों, सिखों और राजपूतों को राष्ट्रपतियों के अंगरक्षक के रूप में नियुक्त किया जाता है। इनमें से प्रत्येक जाति का प्रतिशत 33.1 है। 2013 में एक याचिका के जवाब में सेना ने यह भी माना कि राष्ट्रपति के अंगरक्षक केवल इन तीन जातियों के पुरुष हैं। हालांकि सेना की ओर से सुप्रीम कोर्ट में दिए गए हलफनामे में सेना ने इसका खंडन किया है.

Article By Sunil

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button