बदल जाएंगे ऑफिस में छुट्टियों के नियम, नए लेबर कोड में कुछ ऐसा होगा प्रावधान

सरकार ने देश में श्रम कानून को नया रूप देने के लिए चार नए श्रम कानून जारी किए हैं। इस नए कोड में वह सब कुछ है जो कंपनियों और उनके कर्मचारियों को चाहिए। उदाहरण के लिए, वेतन, पेंशन, ग्रेच्युटी और पीएफ जैसे सामाजिक सुरक्षा, श्रम कल्याण, स्वास्थ्य और काम करने की स्थिति जैसे मुद्दों पर गंभीरता से विचार किया गया है। इन्हीं मुद्दों को ध्यान में रखते हुए चार नए लेबर कोड बनाए गए हैं। महिलाएं ऑफिस या फैक्ट्री में पूरी सुरक्षा के साथ काम कर सकती हैं, इसे लेबर कोड में ध्यान में रखा गया है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि श्रम संहिता ने काम के घंटे और छुट्टियों के लिए विशेष नियम निर्धारित किए हैं। यानी जब लेबर कोड लागू होगा तो काम के घंटों में बड़ा बदलाव आएगा। छुट्टियों के दौरान भी नए बदलाव होंगे।

फिलहाल फैक्ट्री एक्ट 1948 के तहत केंद्रीय कर्मचारियों की छुट्टी और काम के घंटे तय हैं। राज्यों के लिए दुकान और स्थापना कानून बनाए गए हैं। यानी राज्य के कर्मचारियों की छुट्टी और काम के घंटे इसी कानून के तहत तय होते हैं. अब सरकार नए श्रम नियमों के साथ हर स्तर पर छुट्टी और काम के घंटे तय करना चाहती है। इस नए कोड में वह सब कुछ है जो कंपनियों और उनके कर्मचारियों को चाहिए।

नया श्रम संहिता सभी प्रकार के उद्योगों पर लागू होगा। हालांकि, राज्यों के लिए यह छूट होगी कि वे दुकान और स्थापना अधिनियम के तहत काम के घंटे और छुट्टियां पहले की तरह तय कर सकेंगे। हालांकि, राज्य सरकार की ओर से कोई मनमानी नहीं होगी और उन्हें केंद्र के नए श्रम संहिता का अच्छी तरह से ध्यान रखना होगा।

कितने घंटे काम करेगा
नए श्रम संहिता के तहत, दैनिक और साप्ताहिक काम के घंटे क्रमशः 12 घंटे और 48 घंटे तय किए गए हैं। यानी कोई भी कर्मचारी दिन में 12 घंटे और हफ्ते में 48 घंटे से ज्यादा काम नहीं कर सकता है। कंपनियां इससे ज्यादा कुछ नहीं कर सकती हैं। इन कामकाजी घंटों को देखते हुए ‘चार दिन के कार्य सप्ताह’ का प्रावधान लाया गया है। यानी हफ्ते में 4 दिन काम करना और 3 दिन आराम करना। यदि आप दिन में अधिकतम 12 घंटे लेते हैं, तो 48 घंटे का नियम 4 दिनों में पूरा हो जाता है। बाकी तीन दिन कर्मचारी आराम कर सकेंगे, छुट्टी ले सकेंगे।

इस नए कोड में वह सब कुछ है जो कंपनियों और उनके कर्मचारियों को चाहिए।

दैनिक कामकाज के घंटों के अलावा अधिकतम ओवरटाइम घंटे भी तय किए गए हैं। पहले यह सीमा 50 घंटे निर्धारित की गई थी, जिसे बढ़ाकर 125 घंटे कर दिया गया है। यह सवा यानि 7 दिनों के लिए है। इससे कंपनियों को राहत मिलेगी क्योंकि वे हफ्ते में 4 दिन काम कर सकती हैं और वीकेंड पर दूसरे कर्मचारियों से काम ले सकती हैं। 4 दिन के काम को दोधारी तलवार माना जाता है क्योंकि यह कर्मचारियों को अधिक आराम देगा, दूसरी ओर उन्हें दिन में 12 घंटे काम करना होगा। सेहत पर इसका असर देखा जा सकता है। इस नए कोड में वह सब कुछ है जो कंपनियों और उनके कर्मचारियों को चाहिए।

क्या होंगे छुट्टी के नियम
नए श्रम कानून ने छुट्टी के नियमों में बड़े बदलाव किए हैं। अब आवश्यक शर्त 240 दिन से घटाकर 180 दिन कर दी गई है। इसका मतलब है कि फिलहाल कोई नया कर्मचारी 240 दिन की ड्यूटी पूरी करने के बाद ही छुट्टी के लिए आवेदन कर सकता है। नए श्रम संहिता में इस अवधि को घटाकर 180 दिन कर दिया गया है। इस नए कोड में वह सब कुछ है जो कंपनियों और उनके कर्मचारियों को चाहिए।

यदि कोई नया कर्मचारी 180 दिनों की सेवा करता है, तो वह छुट्टी के लिए आवेदन करने का पात्र होगा। हालांकि ‘छुट्टी से कमाई’ (छुट्टी से आमदनी) का नियम पहले जैसा ही रखा गया है। प्रत्येक 20 दिनों की ड्यूटी पर अर्जित अवकाश मिलेगा। हॉलिडे कैरी फॉरवर्ड लिमिट में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है। नए श्रम कानून में प्रत्येक सेक्टर के लिए नकद अवकाश का नियम अनिवार्य कर दिया गया है।

इसे भी पढ़े-Sunscreen Mistakes : चेहरे पर इन तरीकों से सनस्क्रीन अप्लाई करने से नहीं मिलता कोई फायदा

आगे बढ़ने के नियमों को समझने के लिए मैं आपको एक उदाहरण देता हूं। मान लीजिए कि वर्ष के अंत में एक कर्मचारी के पास 45 दिन की छुट्टी है। ऐसे में कंपनी कर्मचारी को 15 दिन की छुट्टी देगी और 30 दिन की छुट्टी अगले साल के लिए ले जाएगी। इससे कर्मचारी को फायदा होगा क्योंकि उसकी छुट्टी बढ़ जाएगी जिसे बाद में भुनाया भी जा सकता है।

इसे भी पढ़े-मेडिकल साइंस की बड़ी सफलता, बनाई कैंसर की दवा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button