कट्टर इस्लामी आतंकवाद से लोगों की रक्षा के लिए काम कर रहे हैं भारत अमेरिका : ट्रंप

अहमदाबाद (Ahmedabad ), 25 फरवरी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने आज कहा कि भारत (India ) और अमेरिका (United States) कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवाद की धमकियों से अपने लोगों की रक्षा करने के लिए काम कर रहे हैं । ट्रंप ने इसी क्रम में एक ‘‘शानदार’’ कारोबारी समझौते की दिशा में बढ़ने का उल्लेख करते हुए कहा कि उनका देश भारत से प्यार करता है और हमेशा उसका ‘‘वफादार’’ दोस्त बना रहेगा।

ट्रंप ने कहा, ‘‘ हमारी सीमाएं आतंकवादियों और आतंकवाद तथा किसी भी तरह के चरमपंथ के लिये हमेशा बंद रहेंगी । हम इस दिशा में काम कर रहे हैं कि जो हमारे नागरिकों के लिये खतरा पैदा करते हैं, उन्हें प्रवेश नहीं मिले और उन्हें इसकी भारी कीमत चुकानी पड़े। ’’

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) के गृह नगर में अपने करीब 30 मिनट के भाषण में ट्रंप ने कहा ‘‘ प्रत्येक देश को सुरक्षित और नियंत्रित सीमा का अधिकार है । अमेरिका और भारत आतंकवाद को रोकने और ऐसी विचारधारा से लड़ने के लिये प्रतिबद्ध हैं।’’

 

अपनी दो दिवसीय भारत यात्रा पर अहमदाबाद पहुंचने पर ट्रंप ने मोटेरा स्टेडियम में आयोजित ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम को संबोधित करते कहा कि उनका प्रशासन आतंकवादी संगठनों पर नकेल कसने और पाकिस्तान की धरती से संचालित आतंकवादियों की धरपकड़ के लिए पाकिस्तान के साथ ‘‘काफी सकारात्मक’’ तरीके से काम कर रहा है।

 

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान (Pakistan ) के साथ उनके देश के संबंध अच्छे हैं । उन्होंने दक्षिण एशिया में तनाव में कमी, वृहद स्थिरता और सौहार्दपूर्ण भविष्य की कामना की ।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘ भारत और अमेरिका के बीच स्वाभाविक और स्थायी मित्रता है। भारत व्यक्तिगत स्वतंत्रता, कानून के शासन, हर इंसान की गरिमा का सम्मान करता है और यहां लोग सौहार्द के साथ अपने धर्म का पालन कर सकते हैं ।’’

उन्होंने कहा कि हिंदू, मुस्लिम, ईसाई और यहूदी, अमीर और गरीब सभी भारतीयों को अपने गौरवपूर्ण इतिहास और उज्ज्वल भविष्य पर गर्व करना चाहिए ।

उन्होंने कहा कि हम दुनियाभर में अपने गठबंधनों में तेजी से नई जान फूंक रहे हैं।

यहां हवाई अड्डे पर ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया का स्वागत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया।

मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी में मोदी के साथ आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता से पूर्व ट्रंप ने ऐलान किया कि अमेरिका भारत के साथ तीन अरब अमेरिकी डालर मूल्य के रक्षा सौदों पर हस्ताक्षर करेगा । साथ ही उन्होंने कहा कि अमेरिका को भारत को ‘‘धरती पर कुछ सबसे आधुनिक और सबसे खतरनाक सैन्य उपकरण’’ उपलब्ध कराए जाने का इंतजार है।

यात्रा के पहले चरण में मोदी और ट्रंप के रिश्तों की गर्मजोशी साफ नजर आ रही थी । दोनों नेताओं ने कई बार एक दूसरे को गले लगाया और करीब एक लाख लोगों की उत्साही भीड़ से भरे मोटेरा स्टेडियम (Sardar Patel Stadium) में एक दूसरे की तारीफों के पुल बांधे । प्रधानमंत्री मोदी के गृह राज्य में इतना भव्य पारंपरिक और रंगारंग स्वागत देखकर अमेरिकी राष्ट्रपति मंत्रमुग्ध हो गए ।

ट्रंप ने कहा, ‘‘ पांच महीने पहले, अमेरिका ने आपके प्रधानमंत्री का एक विशाल फुटबाल स्टेडियम में स्वागत किया था और अब आपने हमारा स्वागत दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम में किया। इस शानदार स्वागत के लिए आपका धन्यवाद । आपका यह भव्य आतिथ्य हम कभी नहीं भूल पाएंगे।’’

ट्रंप का ट्विटर प्रेम इस यात्रा में भी दिखा और उन्होंने हिंदी में संदेश ट्वीट किए जिसमें से एक में उन्होंने अपनी भारत यात्रा को लेकर उत्साह जताया था जिसके जवाब में मोदी ने संस्कृत सूक्त वाक्य ‘अतिथि देवो भव:’’ (अतिथि भगवान होता है) ट्वीट किया।

 

अपने भाषण में ट्रंप ने कहा, ‘‘हमारे देशों के बहुत से मतभेद हैं लेकिन दोनों एक मूलभूत सत्य से परिभाषित और संचालित होते हैं और वह सत्य है- हम सभी को दिव्य रौशनी का आशीर्वाद मिला है और हर इंसान के भीतर एक पवित्र आत्मा है।’’उन्होंने स्वामी विवेकानंद को उद्धृत करते हुए यह बात कही।अपने भाषण में ट्रंप ने मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री इस बात का ‘‘जीवंत प्रमाण’’ हैं कि एक भारतीय अपनी कड़ी मेहनत से क्या कुछ हासिल कर सकता है। उन्होंने प्रधानमंत्री के जीवन की उस सादगी का भी जिक्र किया जब वह चाय बेचा करते थे ।अमेरिकी राष्ट्रपति ने ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में मोदी के कामों का उल्लेख करते हुए कहा कि अगले 10 साल में आपके देश से अत्यधिक गरीबी दूर हो जाएगी।

 

मोदी सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए ट्रंप ने कहा कि 32 करोड़ भारतीय अब इंटरनेट से जुड़े हैं, राजमार्गो के निर्माण की गति दोगुणी हो गई है, 7 करोड़ परिवारों रसोई गैस तक पहुंच हो गई है और 60 करोड़ लोग बुनियादी स्वच्छता सुविधा से जुड़ गए हैं ।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि भारत के लिये क्षमता अभूतपूर्व है । भारत के समृद्ध और आत्मनिर्भर देश के रूप में उठना दुनिया भर में सभी देशों के लिये उदाहरण है ।

उन्होंने कहा कि भारत को बेहतर भविष्य को आकार देने के लिये महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है क्योंकि वह समस्याओं के समाधान एवं शांति के लिये बड़ी जिम्मेदारी लेता है।

 

अहमदाबाद में राष्ट्रपति ट्रंप और उनकी पत्नी साबरमती आश्रम भी गए। हवाई अड्डे और मोटेरा स्टेडियम के रास्ते पर लोक नर्तक, गायक रंगारंग प्रस्तुति दे रहे थे । कई स्थानों पर शंख एव ढोल बजाए जा रहे थे । इस दौरान ट्रंप की पुत्री इवांका और दामाद जेरेड कुश्नर भी मौजूद थे ।

 

उन्होंने अपने भाषण की शुरूआत में कहा, ‘‘नमस्ते, यहां होना मेरे लिए बेहद सम्मान की बात है।’’

ट्रंप ने कहा कि फर्स्ट लेडी और मैं 8000 मील की यात्रा करके यहां आए हैं और यह संदेश देने आए हैं कि अमेरिका भारत को पसंद करता है, अमेरिका भारत का सम्मान करता है और अमेरिका, भारत का निष्ठावान एवं वफादार मित्र बना रहेगा । ’’ उन्होंने कहा कि दोनों देश एक ‘शानदार कारोबार समझौते’ पर काम कर रहे हैं । हालांकि वह (मोदी) सौदेबाजी में बहुत सख्त हैं ।

उन्होंने आतंकवाद को काबू में करने में प्रधानमंत्री मोदी के प्रयासों की सराहना की ।

भारत की सांस्कृतिक विविधता और समृद्धि का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा कि डीडीएलजे जैसी बेहतरीन रोमांटिक फिल्मों सहित भारत में हर साल 2000 फिल्में बनाई जाती हैं । इसी कड़ी में उन्होंने शोले फिल्म के साथ ही खेल महानायकों सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली का भी जिक्र किया।

उन्होंने अपने संबोधन में दिवाली और होली जैसे भारतीय त्योहारों का जिक्र किया ।

वहीं, इक्कीसवीं सदी के विश्व की दिशा तय करने में भारत और अमेरिकी साझेदारी की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा को भारत और अमेरिका के संबंधों में ‘नया अध्याय’ बताया । साथ ही कहा कि यह दोनों देशों के लोगों की प्रगति और समृद्धि का एक ‘नया दस्तावेज’ बनेगी ।

नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘ भारत-अमेरिका के संबंध अब केवल गठजोड़ तक ही नहीं हैं । यह इससे काफी आगे और करीबी रिश्ते हैं । ’’

 

मोदी ने कहा, ‘‘ 21वीं सदी में, नए गठबंधन, नयी प्रतिस्पर्धाएं, नयी चुनौतियां और नए अवसर बदलाव की नींव रख रहे हैं । भारत और अमेरिका के संबंध और सहयोग की, 21वीं सदी के विश्व की दिशा तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका होगी।’’प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ मेरा स्पष्ट मत है कि भारत और अमेरिका नैसर्गिक सहयोगी हैं। हम सिर्फ हिन्द प्रशांत क्षेत्र में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में शांति, प्रगति और सुरक्षा में एक प्रभावी योगदान दे सकते हैं।’’ बाद में ट्रंप और मेलानिया ऐतिहासिक ताजमहल देखने सोमवार की शाम आगरा पहुंचे ।

खबर भाषा से …..

AAD

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button