सिंगरौली में काम कर रही कंपनी की शिकायत पर 1 लाख की रिश्वत लेते अधीक्षण यंत्री गिरफ्तार

सिंगरौली में 25 मेगावाट सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट के चार्जिंग का काम है। चार्जिंग, विद्युत ठेकेदारी लायसेंस और कंपनी के 22 लाख रुपये के बकाया बिल की स्वीकृति के लिए अधीक्षण यंत्री जादौन द्वारा 15 लाख रुपये की रिश्वत की मांग की जा रही है, जिसके टोकन के लिए एक लाख रुपये पहले देने है।

भोपाल, 23 सितम्बर । मध्य प्रदेश के सिंगरौली में 25 मेगावाट सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट में काम कर रही एक कंपनी से बिल पास करने के एवज में 15 लाख रुपए की रिश्वत मांगी गई जिसके बाद लोकायुक्त भोपाल में इस बात की शिकायत की गई शिकायत के बाद लोकायुक्त पुलिस ने बिजली विभाग के अधीक्षण यंत्री अजय प्रताप सिंह जादौन को 1 लाख की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया है यह पूरी कार्यवाही सतपुरा भवन स्थित कार्यालय में की गई

लोकायुक्त पुलिस के अनुसार, गुरुग्राम के सोहना रोड निवासी अस्मिता पाठक ने गत 20 सितम्बर को लोकायुक्त कार्यालय में शिकायत की थी कि वह दर्श रिन्युअल प्रालि के लिए ऊर्जा सलाहकार का कार्य करती हैं। कंपनी का सिंगरौली में 25 मेगावाट सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट के चार्जिंग का काम है। चार्जिंग, विद्युत ठेकेदारी लायसेंस और कंपनी के 22 लाख रुपये के बकाया बिल की स्वीकृति के लिए अधीक्षण यंत्री जादौन द्वारा 15 लाख रुपये की रिश्वत की मांग की जा रही है, जिसके टोकन के लिए एक लाख रुपये पहले देने है।

शिकायत की पुष्टि होने के बाद लोकायुक्त की टीम ने योजनाबद्ध तरीके से बुधवार दोपहर को पाठक सतपुड़ा भवन स्थित तीसरी मंजिल पर बने कक्ष में अधीक्षण यंत्री जादौन को रिश्वत रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किया। लोकायुक्त उप पुलिस अधीक्षक सलिल शर्मा एवं सूर्यकांत अवस्थी के नेतृत्व में यह कार्रवाई की गई। आरोपित अधीक्षण यंत्री के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। आगे की कार्रवाई जारी है।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button