SATNA MP NEWS: ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लिया बदला, अपने गढ़ ग्वालियर में कांग्रेस को 1 वोट से दी मात

SATNA MP NEWS: ग्वालियर नगर निगम में अध्यक्ष पद के लिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की रणनीति और तलवारबाजी परवान चढ़ा है। अध्यक्ष पद पर बीजेपी ने जीत हासिल की है. भाजपा प्रत्याशी मनोज तोमर को 34 और कांग्रेस प्रत्याशी लक्ष्मी गुर्जर को 33 वोट मिले। हालांकि कुछ पार्षदों की क्रॉस वोटिंग का मामला भी सामने आ रहा है। 25 पार्षद होने के बावजूद कांग्रेस को 33 वोट मिले। ग्वालियर नगर निगम में कुल 66 पार्षद हैं और एक मपुर वोट सहित कुल 67 मतदाता हैं।

SATNA MP NEWS: बीजेपी को ग्वालियर मेयर पद नहीं मिला लेकिन कुशल रणनीति और अध्यक्ष पद की तलवारबाजी का फायदा मिला. महापौर का पद गंवाने के बाद भी भाजपा अध्यक्ष पद पाने के लिए कुशल हथकंडे और एड़ी-चोटी का बल प्रयोग करती रही। यही नहीं, चंबल क्षेत्र के वरिष्ठ नेता, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और नरेंद्र सिंह रणनीति बनाते रहे।

Photo By Google

SATNA MP NEWS: यही कारण है कि अध्यक्ष चुनाव से पहले भाजपा अपने सभी 34 पार्षदों को ग्वालियर से दिल्ली के एक होटल में ले गई, जहां केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अध्यक्ष की सीट पाने के लिए सभी पार्षदों के साथ मंथन किया. और इसी का नतीजा है कि आज बीजेपी ने चेयरमैन की सीट पर कब्जा कर लिया है.

Photo By Google

SATNA MP NEWS: बता दें, ग्वालियर में जब बीजेपी मेयर पद से हार गई थी तब सिंधिया और तोमर की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े हो रहे थे. यही कारण है कि इन दोनों वरिष्ठ नेताओं के साथ पूरी भाजपा ने अध्यक्ष की सीट पाने के लिए कड़ी मेहनत की। पहले 34 नवनिर्वाचित पार्षदों को दिल्ली बुलाया गया, जहां पहले केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सभी पार्षदों के साथ बैठक की और फिर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सभी पार्षदों को अपने बंगले पर बुलाया और मंथन किया.

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सभी पार्षदों को अपने बंगले पर बुलाया और मंथन किया.
Photo By Google

इसे भी पढ़े-SATNA MP NEWS: MP के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में हर घर तिरंगा अभियान के तहत तिरंगा खरीदा और कांग्रेस को आड़े हाथ लिया.

SATNA MP NEWS: क्योंकि केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और नरेंद्र सिंह तोमर की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े हो रहे थे, अगर बीजेपी अध्यक्ष की सीट हार गई तो ग्वालियर के चंबल अंचल में कहीं बीजेपी को करारी हार मिली. इसलिए सिंधिया और तोमर पिछले एक हफ्ते से चेयरमैन की सीट पाने के लिए मंथन कर रहे हैं और आखिरकार उन्होंने चेयरमैन की सीट जीतकर अपनी साख बचा ली है।

Article By Sunil

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button