सागर: पुलिस को देख नाबालिग दूल्हे को मंडप में छोड़कर भागे परिजन

सागर, 19 जुलाई। बीती रात पुलिस की विशेष किशोर इकाई की टीम बाल विवाह रोकने पहुंची, जहां टीम को देखकर दूल्हे को छोड़कर घराती और बाराती भाग गए। मंडप में अकेले बैठे दूल्हे को पुलिस केंट थाने ले आई। दूल्हे के परिजनों को पुलिस ने फोन भी लगाया, लेकिन उसे कोई लेने नहीं आया। आखिरकार रविवार रात 10 बजे दूल्हे की भाभी को जब फोन लगाया गया तो वह थाने पहुंची। पुलिस ने दूल्हे को भाभी के सुपुर्द कर दिया।

पुलिस की विशेष किशोर इकाई की ज्योति तिवारी ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली कि केंट क्षेत्र के अमझिरा मंदिर परिसर में एक नाबालिग लड़की की शादी हो रही है। पुलिस ने मौके पर जा कर देखा तो वहां आधा दर्जन से अधिक मंडप लगे हुए थे। मंदिर परिसर में कई विवाह हो रहे थे। ऐसे में पुलिस को नाबालिग दुल्हन को ढूंढना एक चुनौती बन गई। जैसे तैसे पुलिस ने सूचना देने वाले कॉलर को दोबारा फोन लगाकर पता किया और वहा सही मंडप पर पहुंची। जहां नाबालिग दुल्हन के साथ उसके भाई की भी शादी हो रही थी।

भाई की उम्र का पता किया तो वह भी विवाह के लिए निर्धारित आयु से कम पाया गया। पुलिस को देख वहां पहले ही भगदड़ मच गई थी। देखते ही देखते वहां से लड़के पक्ष के लोगों ने दौड़ लगा दी। वहीं कुछ देर में नाबालिग दुल्हन को लेकर उसकी मां भी जंगल की ओर भाग गई। अब वहां पर अकेला दूल्हा बचा। दूल्हे के साथ और कोई भी नहीं था, इसलिए पुलिस ने उसे शाम को केंट थाना में लाकर बैठा लिया। दूल्हे ने बताया कि वह ललितपुर जिले के हैं। ग्राम मेहर में उसके मामा रहते हैं और उन्होंने ही दोनों भाई बहनों की शादी मेहर में तय की थी।

पुलिस ने दूल्हे से फोन नंबर लेकर उनके परिजनों को लगाया, लेकिन कोई भी फोन नहीं उठा रहा था। इसके बाद देर शाम लड़की की भाभी को फोन लगाने पर उससे बात हुई, जिसके बाद रात करीब 10 बजे केंट थाना में उसकी भाभी पहुंची, तब पुलिस ने दूल्हे को उसके सुपुर्द किया।

एक दिन में रोके पांच बाल विवाह

पुलिस की विशेष किशोर इकाई की टीम ने रविवार को जिले में अलग-अलग स्थानो पर पांच बाल विवाह रोके। ज्योति तिवारी ने बताया कि रानगिर हरसिद्धि मंदिर में हो रही शादी में दुल्हन तो 18 साल की थी, लेकिन दूल्हे की आयु विवाह योग्य नहीं थी। इसके अलावा नयाखेड़ा दलपतपुर में 15 साल की नाबालिग लड़की की शादी को रोका गया।

अमझिरा में एक नाबालिग लड़की और विवाह के लिए निर्धारित आयु से कम के लड़के का विवाह रोका गया। मोतीनगर थाना क्षेत्र के बम्होरी रेंगुआं में 16 साल की नाबालिग लड़की की शादी रोकी गई। यहां पर सागर के सूबेदार वार्ड से बारात आई हुई थी। लड़के की उम्र 30 वर्ष से अधिक थी।

 

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button