MP : पुलिसकर्मी निकले लुटेरे, व्यापारी से छीन लिए 5 लाख रुपये, दोनों निलंबित

भोपाल: राजधानी पुलिस के लिए शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है अयोध्या नगर थाने में पदस्थ दो पुलिसकर्मियों पर गुजरात के हीरा कारोबारी के दो कर्मचारियों से अड़ी बाजी कर 5 लाख रुपए छीनने का आरोप लगाया है चौंकाने वाली बात यह है कि वारदात को अलग रंग देने के लिए दोनों सिपाहियों ने शातिर अपराधियों की तरह व्यवहार किया उन्होंने अपने थाने के प्रभारी को झूठी कहानी रचकर 3लाख रुपए थाने में जमा करा दिए और 2लाख रुपए अपने पास रख कर घटना को अलग ही रंग देने का प्रयास किया बाद में कारोबारी ने गुजरात से भोपाल आकर आला अधिकारियों से मुलाकात करके पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी इस पर पूरा मामला खुलकर सामने आ गया पुलिस अधीक्षक ने दोनों सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया और उनके पास से रुपए जप्त कर कारोबारी के सुपुर्द कर दिए हैं

बता दे की मिली जानकारी के मुताबिक गुजरात के अहमदाबाद की जीके एंड कंपनी में रौनक कुमार काम करते हैं पिछली 10 जुलाई की रात लगभग 8:15 बजे रौनक अपने साथी किशान झाला के साथ स्कूटर से मेनाल रेसीडेंसी के गेट नंबर 5 से गुजर रहे थे तभी वहां अयोध्या नगर थाने के आरक्षक सुमित बघेल विनोद रावत मिले दोनों ने उनको रोक और बैग चेक करने लगे लगे में लगभग 26 लाख रुपए रखे थे यह देखकर दोनों सिपाहियों ने उनको धमकाना शुरू किया दोनों सिपाही उनसे अड़ी बाजी कर रुपए मांगने लगे दोनों कर्मचारियों ने उनकी कंपनी के प्रोपराइटर से भी बात कराई लेकिन दोनों सिपाहियों ने एक नहीं सुनी अड़ी बाजी कर सिपाहियों ने उनके 26 लाख रुपए में से 5 लाख रुपए लेकर दोनों को डरा धमकाकर भगा दिया

इसके बाद रचा ड्रामा

बताते चलें कि इस घटना के बाद दोनों सिपाही अयोध्या नगर थाने पहुंचा और प्रभारी टीआई पवन सिंह से कहा कि गश्त के दौरान बिना नंबर की स्कूटर पर दो लोगों को रोका तो वे 3 लाख रुपए जबरन देकर भाग गए थाना प्रभारी पवन सिंह यह बात सुनकर दंग रह गए उनको विश्वास नहीं हुआ वह दोनों आरक्षकों को साथ लेकर मौके पर पहुंचे आसपास लोगों से पूछा और सीसीटीवी फुटेज देखे लेकिन कुछ नहीं मिला बाद में पूरे घटनाक्रम की जानकारी उन्होंने अधिकारियों को दी थाने के रोजनामचा रजिस्टर में इसका उल्लेख किया जानकारी के बाद आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए थे इधर वारदात के दूसरे दिन गुजरात से कंपनी के कारोबारी प्रवीण भाई ने थाना प्रभारी समेत आला अधिकारियों को पूरा घटनाक्रम बताया इस पर एसपी साईं कृष्णा ने एएसपी भदौरिया को जांच के निर्देश दिए थे जांच में दोनों आरक्षण आरक्षक दोषी पाए गए जिसके बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया

शिनाख्त परेड में दोनों को पहचाना

घटना के बाद कंपनी के मालिक प्रवीण भाई अपने दोनों कर्मचारी रौनक और किशन को लेकर थाने पहुंचे जहां पर थाना प्रभारी ने उनके आरक्षक विनोद रावत को बुलाया कर्मचारियों ने सिपाही को पहचान लिया और कहा कि इनके साथ एक और आरक्षक ने मिलकर उनसे रुपए छीने थे इसका खुलासा होने के बाद पुलिस ने दोनों आरक्षक से बाकी के ₹200000 बरामद कर लिए इसके बाद पूरे ₹500000 पीड़ित पक्ष को सुपुर्द कर दिए गए

जांच के बाद आरोपों पर कार्यवाही

इस मामले की जांच का जिम्मा एएसपी राजेश सिंह भदौरिया को सौंपा गया था रिपोर्ट तैयार करने से पहले आरोपित आरक्षक को लाइन हाजिर किया गया था जांच में दोनों अफसरों पर लगे आरोप सही पाए गए रिपोर्ट बुधवार को दोपहर में एसपी साउथ के पास पहुंची पुलिस अधीक्षक साईं कृष्णा ने बताया कि दोनों को सस्पेंड कर उनके खिलाफ विभागीय जांच शुरू कर दी गई है

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button