MP News: कलेक्टर को हाइकोर्ट ने लगाई फटकार, कहा- कलेक्टर हो राजा मत बनो

MP News Today: मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के हाईकोर्ट ने कहा, आप कलेक्टर हैं, राजा नहीं। इसके साथ ही श्री अक्षय कुमार सिंह ने आदेश वापस लेने का वादा किया जिसके चलते हाईकोर्ट में याचिका पेश की गई। दरअसल हुआ ये कि मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर खंडपीठ ने भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी श्री अक्षय कुमार सिंह को उनके खिलाफ नकारात्मक टिप्पणी करने के लिए फटकार लगाई। क्या है शिवपुरी कलेक्टर की घटना पुरा मामला जाने.

MP News: आदिम जाति कल्याण विभाग के कर्मचारी राजकुमार सिंह ने मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर खंडपीठ में याचिका दायर कर कहा है कि शिवपुरी कलेक्टर श्री अक्षय ने जिला संयोजक आरएस परिहार का तबादला आदिम जाति कल्याण विभाग में कर दिया है. कुमार सिंह, एक कनिष्ठ कर्मचारी महावीर प्रसाद जैन को जिला समन्वयक का पद दिया गया था जहाँ वे (राजकुमार सिंह) सबसे वरिष्ठ हैं और उन्हें नियमानुसार अपना कार्यभार मिलना चाहिए।

MP News: कलेक्टर को हाइकोर्ट ने लगाई फटकार, कहा- कलेक्टर हो राजा मत बनो
Photo By Google

ग्वालियर हाईकोर्ट ने शिवपुरी कलेक्टर को क्यों लगाई फटकार

MP News: हाईकोर्ट ने याचिका स्वीकार करने के बाद शिवपुरी कलेक्टर श्री अक्षय कुमार सिंह को जवाब दाखिल करने के लिए तलब किया. मामले की सुनवाई जस्टिस जीएस अहलूवालिया ने की। शिबपुरी कलेक्टर महावीर प्रसाद ने जैन को जिला समन्वयक का प्रभार दिये जाने के फैसले को सही ठहराया,

MP News: कलेक्टर को हाइकोर्ट ने लगाई फटकार, कहा- कलेक्टर हो राजा मत बनो
Photo By Google

MP News:  लेकिन जब जस्टिस अहलूवालिया ने किसी कर्मचारी को रिक्त पद पर नियुक्त करने के नियमों के बारे में पूछा तो शिबपुरी कलेक्टर ने अपने फैसले के समर्थन में नियमों का हवाला नहीं दिया. जस्टिस अहलूवालिया ने उन्हें कोर्ट में फटकार लगाई।

MP News: कलेक्टर को हाइकोर्ट ने लगाई फटकार, कहा- कलेक्टर हो राजा मत बनो
Photo By Google

 इसे भी पढ़े-MP News: एमपी के इन शहरों में शराब बिक्री पर लगा प्रतिबंध, जानिए पूरी खबर

अक्षय कुमार सिंह कलेक्टर शिवपुरी ने मानी गलती, आदेश वापस लिया

MP News: जस्टिस अहलूवालिया ने कहा- आप जिले के कलेक्टर हैं, राजा नहीं। लेकिन, आपने राजा की तरह काम किया। जज की सख्त टिप्पणी के बाद कलेक्टर सिंह ने जिम्मेदारी सौंपने में गलती स्वीकार की. उन्होंने जिला संयोजक को जिम्मेदारी देते हुए 23 नवंबर (बुधवार) को दिए गए आदेश को वापस लेने की बात भी कोर्ट से कही। हाईकोर्ट ने अर्जी खारिज कर दी।

Article By Sunil

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please off your adblocker and support us