MP : सीवर लाइन ने ली फिर दो जान, दूसरे दिन भी हुआ बड़ा हादसा

कटनी जिले के कुठला थाना अंतर्गत कुठला बस्ती में सीवर लाइन प्लांट बनाने के लिए खोदे गए गड्ढे में रविवार को दो बच्चों की डूबने से मौत हो गई

सीवर लाइन ने ली फिर दो जान

कटनी, 26 सितंबर । मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले में सीवर लाइन में तीन लोगों की मौत का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि एक बार फिर एमपी के ही कटनी में सीवर लाइन प्रांत के लिए खोदे गए गड्ढे में दो बच्चों की मौत हो गई 5 घंटे तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बच्चों के शव बाहर निकाले गए कटनी जिले के कुठला थाना अंतर्गत कुठला बस्ती में सीवर लाइन प्लांट बनाने के लिए खोदे गए गड्ढे में रविवार को दो बच्चों की डूबने से मौत हो गई। करीब पांच घंटे चले रेस्क्यू में दोनों के शवों को गड्ढे से निकाल लिया गया। पुलिस ने दोनों के शव को अपने कब्जे में लेकर पंचनामा कार्रवाई कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।

हादसे के बाद से परिजनों और क्षेत्र के लोगों में काफी आक्रोश है, परिजनों और क्षेत्र वासियों ने आरोप में कहा कि रहवासी क्षेत्र में सीवर लाइन का प्लांट लगाए जाने का विरोध शुरु से किया जा रहा है, बावजूद इसके जिम्मेदार अधिकारियों ने विरोध को अनसुना कर दिया। प्लांट का गड्ढा रहवासी क्षेत्र में नहीं खोदा जाता तो यह हादसा नहीं होता।

पुलिस ने बताया कि निवासी रामदास बेन की 9 वर्षीय बच्ची हस्सो और दिनेश बेन का 8 वर्षीय बच्चा कृष्णा रविवार सुबह लगभग 7 बजे घर के पीछे खेल रहे थे। कुछ देर बाद जब दोनों बच्चे परिजनों ने नहीं दिखे तो उन्होंने उनकी खोजबीन शुरु की। घर के पीछे बने सीवर लाइन के प्लांट के गड्ढे के पास बच्चों की चप्पल दिखी। जिस पर गड्ढे में बच्चों की तलाश क्षेत्रीय लोगों द्वारा की जाने लगी। इस बीच पुलिस को सूचना दी गई।

मौके पर पहुंची पुलिस ने नगर निगम को सूचना दी। जिसके बाद मौके पर फायर ब्रिगेड और नगर निगम की रेस्क्यू टीम पहुंची। लोहे के जाल को गड्ढे में डालकर बच्चों की खोजबीन शुरु की गई। करीब चार घंटे तक चले रेस्क्यू में दोनों के शव को गड्ढे से बाहर निकाला गया। दोनों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

रहवासी क्षेत्र बनाया जा रहा सीवर प्लांट

हादसे के बाद क्षेत्र के लोगों ने बताया कि रहवासी क्षेत्र के पास सीवर लाइन का प्लांट बनाया जा रहा है। सीवर प्लांट के लिए ही वहां पर करीब 40 से 50 फीट गहरा खदाननुमा गड्ढा खोदा गया है। रहवासी क्षेत्र होने के कारण हर समय हादसे की आशंका बनी रहती है। क्षेत्रवासियों द्वारा शुरुआत से रहवासी क्षेत्र में सीवर लाइन प्लांट लगाए जाने का विरोध किया जा रहा है, लेकिन जिम्मेदार अधिकारी विरोध को अनसुना कर रहे हैं। क्षेत्रवासियों का कहना है कि रहवासी क्षेत्र में प्लांट नहीं लगाया गया होता तो यह हादसा नहीं होता।

इससे पहले आपको बताते चलें कि मध्यप्रदेश के ही सिंगरौली जिले में सीवर लाइन रिपेयरिंग करने के दौरान तीन श्रमिकों की दर्दनाक मौत हो गई थी यहां ठेकेदार ने लापरवाही करते हुए बिना सुरक्षा मानकों के तीन श्रमिकों को सीवर लाइन के रिपेयरिंग के लिए सीवर लाइन में उतार दिया जहां दम घुटने की वजह से तीन श्रमिकों की मौत हो गई थी

यह भी पढ़े : MP : मंदिर में भड़काऊ डांस करती युवती का वीडियो वायरल, हिंदू संगठनों ने किया विरोध

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button