MP में चौकाने वाले आंकड़े, सीएम शिवराज ने कहा जल्दी खोजो

भोपाल: चौंकाने वाला वायरस आंकड़ा सामने आया है जिस समय पूरा मध्यप्रदेश लॉकडाउन था और उसके बाद कोरोनावायरस संक्रमण काल के कारण यातायात प्रतिबंधित था उस समय मध्य प्रदेश से 8 महीनों में 7हजार लड़कियां गायब हो गए ध्यान देने वाली बात यह भी है कि इस मुद्दे को विपक्षी दल कांग्रेस ने नहीं उठाया बल्कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उठाया

लड़कियों का इस तरह लापता होना सामान्य बात नहीं है: सीएम शिवराज सिंह

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इस मामले में कुछ स्तरीय मीटिंग बुलाई उन्होंने डीजीपी विवेक जौहरी को निर्देश दिए कि लापता युवतियों और बच्चियों के तालाब करने का विमान तेज करें उन्होंने कहा घर से बाहर अन्य जिलों में रहकर काम करने वाली युवतियों का रिकॉर्ड रखने के लिए शिकायत कर सके ऐसी व्यवस्था की जाए जिसके लिए जिले से बाहर जाने पर रजिस्ट्रेशन अनिवार्य हो उन्होंने कहा गायब बच्चों में बेटों की तुलना में बेटियों की संख्या दुगनी होने से स्पष्ट संकेत है कि उनका लापता होना सामान ले नहीं है

लापता 7 हजार युवतियों में से पुलिस ने करीब 4 हजार की तलाश की है गेम जबकि 3 हजार का सुराग नहीं मिला है मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटियों के गायब होने के मामले मैं गंभीर कार्रवाई की आवश्यकता है उन्होंने कहा कि लापता बालिकाओं की संख्या भी छोटी नही इतनी बड़ी संख्या में यह होना चिंता का विषय है

  यह भी पढ़ें – पिता पुत्र के जज्बे को सलाम 350 किलोमीटर बाइक चलाकर पहुंचाया बर्ड फ्लू का सैंपल CM शिवराज ने की तारीफ

डीजीपी ने बताया मध्य प्रदेश से लड़कियां लापता क्यों हो रही हैं

डीजीपी जौहरी ने बैठक में बालिकाओं और युवतियों के लापता होने के पीछे प्रमुख कारण बताए उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्र के थानों में दर्ज मामलों में अधिकांश में बिना बताए घर से जाना नाराज हो कर भागना या बिना बताए प्रेमी के साथ भागने के तथ्य सामने आए हैं जबकि ग्रामीण क्षेत्र से मजदूरी के नाम पर पलायन होता है इससे श्रम विभाग की कार्रवाई आवश्यक होगी इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह भी देखें कांट्रेक्टर उन्हें कहां और किस कार्य से ले जाते हैं इसका रिकॉर्ड रखा जाए बैठक में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और अपर मुख्य सचिव राजेश राजौरा भी मौजूद रहे

एक देश एक हेल्प लाइन नंबर मुख्यमंत्री

इससे पहले मुख्यमंत्री विभिन्न तरह की हेल्प लाइन को एक करने के लिए भी प्रस्ताव बनाने के निर्देश दे चुके हैं अभी उमंग एप 1090 प्रदेश की व्यवस्था है भारत सरकार का हेल्पलाइन नंबर 1098 है हालांकि सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा की दृष्टि से प्रदेश के 7 शहरों में से सिटी कार्यक्रम शुरू किया है अगले 1 साल में इसका विस्तार किया जाना

    यह भी पढ़ें –शिवराज सरकार ने दिया कर्मचारियों को ये लाभ, 4.47 लाख कर्मचारियों को होगा फायदा

PHQ की नई गाइडलाइन

महिलाओं के खिलाफ होने वाले यौन अपराधों के मामलों में 2 माह में जांच पूर्ण करने का प्रावधान है जिन अपराधों की विवेचना के लिए स्पष्ट समय सीमा निर्धारित नहीं है उनकी जांच भी 3 महीने में पूरी करनी होगी न्यायालय के निर्णय निर्देश पुलिस मुख्यालय के आदेश और निर्देश के पालन में जांच 3 महीने में पूरी करनी होगी महिला अपराधों की जांच 3 मार्च से आगे जारी रखने के लिए विवेचक थाना प्रभारी को पहले मामले में एसपी से अलग-अलग आदेश प्राप्त करना होगा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button