MP कांग्रेस कार्यालय के बाहर लगा भगवा ध्वज, पढिये क्या है साजिस

भोपाल: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के कांग्रेस कार्यालय (Congress Office) के बाहर और इसका भगवा झंडा लगा हुआ है जिसे देखकर कांग्रेसियों ने किसी बड़ी साजिश की आशंका जताई है वही एक मामले को लेकर शिवराज सरकार के कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग(Cabinet Minister Vishwas sarang) ने तंज करते हुए कहा कि केसरिया रंग(Saffron color) मान और सम्मान का प्रतीक माना जाता है जिसका हम सभी को सम्मान करना चाहिए लेकिन कांग्रेसियों ने इस से दूरी बना ली है जिसके कारण उनकी स्थिति ऐसी हो गई है ऐसे में उन्हें भी केसरिया (Saffron color)का सम्मान करना चाहिए

कांग्रेस दफ्तर के बाहर लहराया भगवा झंडा

बता दें कि किसी अज्ञात व्यक्ति ने मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कांग्रेस दफ्तर के बाहर RSSका भगवा झंडा लगाया है सोमवार को जब कांग्रेस नेता पार्टी कार्यालय से बाहर निकल रहे थे तभी आर एस एस का भगवा झंडा लहराते हुए उसके बाद कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने बड़ी साजिश की आशंका जताई है साथ ही इस घटना के बाद आपत्ति भी जताई इस दौरान पूर्व में अतीत चंद यादव ने आरोप लगाते हुए कहा कि किसी की सोची समझी चाल है ताकि मंदसौर की तरह यहां भी भावनाओं को भड़काया जा सके लेकिन हम सभी रंगों को अपनाने वाले हैं हमें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता

  यह भी पढ़ें – CM शिवराज आखिर क्यों मिले इस विभाग के मंत्री से

मंत्री विश्वास सारंग ने दिया बड़ा बयान

कांग्रेस प्रवक्ता रवि सक्सेना ने बीजेपी की ओर इशारा करते हुए कहा कि PCC दफ्तर के बाहर आर एस एस का झंडा लगाना है कि उनकी मंशा को अपने आप में उजागर करता है इस मामले पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया के बाद कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग ने बयान दिया है उन्होंने कहा कि केसरिया रंग मान सम्मान का प्रतीक माना जाता है जिसका हम सभी को सम्मान करना चाहिए लेकिन कांग्रेसियों ने इस से दूरी बना ली है जिसके कारण उनकी स्थिति ऐसी हो गई है ऐसे में उन्हें भी केसरिया का सम्मान करना चाहिए

कांग्रेस पार्टी की सरिया का सम्मान करती है राकेश प्रवक्ता

विश्वास सारंग की प्रतिक्रिया के बाद कांग्रेस के जिलाध्यक्ष राकेश प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के झंडे में भी सभी रंगों का मिलन है और रही बात मान और सम्मान की तो कांग्रेस पार्टी केसरिया रंग का मान सम्मान आवश्यक तौर पर करती है केसरिया हिंदू धर्म का संवाहक भी माना जाता है ऐसे में केसरिया रंग के झंडे को सार्वजनिक स्थानों पर लगाने से अच्छा मंदिर और धार्मिक स्थानों पर लगाया जाना चाहिए

    यह भी पढ़ें –शिवराज सरकार दो विभागों को एक करने की तैयारी में है, ये होगा फायदा

रविवार को कांग्रेस बीजेपी हुए थे आमने-सामने.

उन्होंने कहा कि इस तरह से पीसीसी दफ्तर के बाहर सरकारी पुल पर केसरिया झंडा फहराना किसी की साजिश हो सकती है हम कांग्रेस पार्टी जिला अध्यक्ष से मांग करेंगे कि इस प्रकार केसरिया झंडे को सरकारी पुलिया सड़कों पर फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें बता दें कि मध्यप्रदेश विधानसभा सत्र को लेकर कांग्रेस और बीजेपी रविवार को आमने-सामने आ गए थे जहां पर कांग्रेस नेता डॉक्टर गोविंद सिंह ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि विधानसभा सत्र को कोरोना का झूठा फैलाकर स्थगित किया गया है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button