मध्यप्रदेश ने वैक्सीनेशन में रचा इतिहास, CM शिवराज ने दिखाया विक्ट्री साइन

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इसके लिए सभी डाक्टर्स, स्टॉफ नर्स, वैक्सीनेटर, वैरीफायर, मोबेलाईजर, आँगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, डेटा मैनेजर, कोल्ड चेन हैण्डलर, वैक्सीन वैन ड्रायवर, कोल्ड चेन टैक्नीशियन, ए.वी.डी., कन्ट्रोल एण्ड कमांड टीम आदि के सदस्य विशेष बधाई के पात्र हैं। उन्होंने सभी जिलों के प्रशासन, पुलिस प्रशासन, स्थानीय प्रशासन के सभी फ्रंट लाइन वर्कर्स को भी हृदय से बधाई दी।

भोपाल, 30 अक्टूबर (हि.स.)। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश ने वैक्सीनेशन में इतिहास रचा है। CM शिवराज ने इस दौरान विक्ट्री साइन दिखा कर सभी की हौसला अफजाई की,  प्रदेश में प्रथम और द्वितीय डोज की संख्या 7 करोड़ को पार कर गई है। निश्चित ही कल मध्यप्रदेश के लिए ऐतिहासिक दिन था। जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत में 100 करोड़ वैक्सीन के डोज लग चुके हैं, जो अद्भुत और आश्चार्यजनक उपलब्धि है, वहीं मध्यप्रदेश ने भी 92 प्रतिशत लक्ष्य आबादी को प्रथम डोज और 37 प्रतिशत भाई-बहनों को कोरोना से बचाव का द्वितीय डोज लगाकर महत्वपूर्ण कार्य किया है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि इसके लिए सभी डाक्टर्स, स्टॉफ नर्स, वैक्सीनेटर, वैरीफायर, मोबेलाईजर, आँगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, डेटा मैनेजर, कोल्ड चेन हैण्डलर, वैक्सीन वैन ड्रायवर, कोल्ड चेन टैक्नीशियन, ए.वी.डी., कन्ट्रोल एण्ड कमांड टीम आदि के सदस्य विशेष बधाई के पात्र हैं। उन्होंने सभी जिलों के प्रशासन, पुलिस प्रशासन, स्थानीय प्रशासन के सभी फ्रंट लाइन वर्कर्स को भी हृदय से बधाई दी।

मुख्यमंत्री शनिवार को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के सभाकक्ष में प्रदेश में 7 करोड़ कोविड वैक्सीन डोज पूर्ण होने पर संवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा कलेक्टर्स भी इसमें शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठकें आयोजित की जाएँ, जिसमें आगामी वैक्सीनेशन अभियान में सभी वर्गों की भागीदारी के साथ कार्य किया जा सके।

प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व से मिली है सफलता

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश की सौ करोड़ आबादी को वैक्सीन का डोज लग चुका है, जो एक रिकार्ड है। पहली बार देश में वैक्सीन बनी। इससे पहले अन्य देशों में ही वैक्सीन बनती थी। भारत में स्वदेशी वैक्सीन विकसित की गई, जिसके लिए प्रधानमंत्री मोदी की इच्छाशक्ति और हमारे वैज्ञानिकों के प्रयास महत्व रखते हैं। विश्व में वैक्सीनेशन कार्य में भारत का सबसे बेहतर प्रदर्शन रहा है। क्योंकि अन्य देशों की तुलना में भारत में आबादी अधिक है और फिर भी देश में लोगों को नि:शुल्क वैक्सीन उपलब्ध हुई। निश्चित ही प्रधानमंत्री मोदी अभिनंदन के पात्र हैं। मुख्यमंत्री ने प्रदेश की साढ़े आठ करोड़ जनता की ओर से प्रधानमंत्री मोदी का आभार व्यक्त किया।

घनघोर परिश्रम किया टीम ने, इन सबको बधाई

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और चिकित्सा शिक्षा विभाग के मंत्री, अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, सचिव, आयुक्त, अन्य अधिकारी और टीम में शामिल सभी लोग बधाई के पात्र हैं। सभी ने विपरीत परिस्थितियों में कार्य किया है। जब वैक्सीनेशन का विरोध हो रहा था और अनेक लोग भ्रम एवं भय की स्थिति में थे। तब टीकाकरण के लिए जनता को प्रेरित किया गया। दिन-रात परिश्रम कर लोगों को घरों और खेतों तक जाकर समझाइश दी गई। हेल्थ वर्कर्स ने नदी-नाले पार कर वैक्सीन लगाने का कार्य किया। इन सभी का हृदय से अभिनंदन करने का भाव मन में है। इन सभी की जितनी प्रशंसा की जाए कम है। मध्यप्रदेश को ऐसे कर्मठ कार्यकर्ताओं पर गर्व है। कलेक्टर्स ने भरपूर परिश्रम किया। अधीनस्त अमले को सक्रिय बनाया। प्रदेश के मुख्य सचिव और पुलिस के आला अधिकारी भी वैक्सीनेशन कार्य को लीड करते रहे।

जन-प्रतिनिनिधि और धर्म-गुरुओं की भूमिका भी रही महत्वपूर्ण

चौहान ने कहा कि प्रदेश के जन-प्रतिनिधियों ने वैक्सीनेशन कार्य में अहम सहयोग दिया है। मंत्री, सांसद, विधायक, महापौर, नगरपालिका अध्यक्ष, पार्षद, जिला, जनपद, ग्राम पंचायत के पदाधिकारी, धर्मगुरु सभी प्रेरक बने। सामाजिक संस्थाओं ने भी पूरा सहयोग दिया। इसके साथ ही मीडिया के साथियों ने भी जागरूकता अभियान संचालित किया। यह सभी के सहयोग से संभव हुआ। जनता को पीले चावल देकर, विशेष बैठक व्यवस्था उपलब्ध करवाकर, घर तक वापस छुड़वाने की सुविधा देकर वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया गया। उन्होंने कहा कि यह अभिनव प्रयोग थे। इनका दस्तावेजीकरण किया जाए।

सरकार और समाज की संयुक्त ताकत, सफलता का आधार

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार और समाज की संयुक्त ताकत इस सफलता का आधार बनी। अभी भी दूसरे डोज की सफलता के लिए काफी प्रयास करने हैं। अभी ये पड़ाव है। हमारी मंजिल है संपूर्ण टीकाकरण। पूर्व के अभियानों के अनुभव नए टीकाकरण अभियान में उपयोगी होंगे। जिन्हें अभी तक वैक्सीन नहीं लगी है उन लोगों को वैक्सीन लगवाने में हम कोई कसर न छोड़ें। यह एक चुनौती है। हमें चैन की सांस तब तक नहीं लेना है जब तक लक्ष्य पूर्ण नहीं होता। टीकाकरण से शेष रह गए लोगों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित करना होगा। सभी राजनैतिक दल भी इसमें सहयोग करेंगे तो कार्य आसान हो जाएगा। आगामी 31 दिसम्बर तक द्वितीय डोज सभी को लग जाता है तो हम तीसरी लहर जैसी आशंका से मुक्त हो सकते हैं।

उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर श्रेष्ठ कार्य करने वालों को सम्मानित और प्रोत्साहित भी किया जाए। इस अवसर पर उन्होंने अलीराजपुर के एएनएम रीना राय के परिश्रम का उल्लेख किया। प्रधानमंत्री मोदी ने भी रीना राय की भूमिका को रेखांकित किया है। इसके अलावा झाबुआ की हर्षिता और भोपाल की एएनएन गायत्री भी बधाई की पात्र हैं, जिन्होंने 61 हजार वैक्सीन डोज लगवाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे सभी कार्यकर्ताओं का हौसला निरतंर बढ़ाया जाएगा।

प्रतिदिन हो टीकाकरण कार्य, बच्चे भी प्रेरित करें, कॉलेज विद्यार्थी लीड करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि टीकाकरण का कार्य प्रतिदिन किया जाए। त्यौहार पर भी यह क्रम नहीं रोकना है। रूटीन वैक्सीनेशन ऐसा हो की प्रतिदिन कम से कम 5 से 6 लाख डोज लगाए जाएँ। अन्य कार्यों के साथ वैक्सीनेशन कार्य समानांतर रूप से जारी रखना है। विशेष अभियान की तारीखें तय होने पर आकर्षक उपायों से आम जनता को प्रेरित करने कार्य किया जाए। उन्होंने कहा कि अब बच्चे भी माता-पिता को प्रेरित करने का कार्य करें। सभी विद्यार्थी यह जिम्मेदारी उठाएँ। विशेष रूप से कॉलेज के विद्यार्थी लीड करते हुए, आवश्यक वातावरण निर्मित करने का कार्य करें। घर-घर जाकर वैक्सीन लगाई जाए। जन-अभियान परिषद, एनसीसी कैडेट्स और कोरोना वालंटियर्स भी अपील करें।

एक प्रेरक ग्रुप बनाएँ

उन्होंने कहा कि नागरिकों को सेकेण्ड डोज का लाभ दिलवाने के लिए कुछ लोग मिलकर प्रेरिक ग्रुप बना सकते हैं। इसमें राजनैतिक दल, मीडिया के मित्र, विद्यार्थी, समाजसेवी शामिल हो सकते हैं। अगले दो माह में कठोर परिश्रम से मंजिल पर पहुँचना आसान होगा। त्यौहारों पर गाईड लाइन का पालन भी करना है। आवश्यक सावधानियों से संक्रमण से बचने का प्रयास बना रहे। कि आम जनता में वायरस का भय कम हो जाने से भी वैक्सीनेशन के प्रयासों को शत-प्रतिशत सफलता नहीं मिली है।

सहयोगी एजेंसियों का माना आभार

मुख्यमंत्री चौहान ने एनएचएम भवन में संवाद कार्यक्रम के पश्चात वैक्सीनेशन के कार्य की सहयोगी एजेंसियों जैसे विश्व स्वास्थ्य संगठन, यूनिसेफ, यूएनडीपी आदि ने जो सहयोग किया है उसके बिना सफलता प्राप्त करना संभव नहीं था। मुख्यमंत्री ने अपेक्षा की कि ये सभी पार्टनर्स एजेंसियाँ भविष्य में भी सहयोगी भूमिका निभाएंगी। चित्रकार देवीलाल पाटीदार ने मुख्यमंत्री को 7 करोड़ कोविड -19 टीकाकरण पर केंद्रित तस्वीर भेंट की।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button