junior doctors हड़ताल पर, पीजी काउंसलिंग नहीं होने है नाराज

भोपाल, 29 नवंबर (हि.स.)। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल सहित सभी जिलों में जूनियर डॉक्टर junior doctors हड़ताल पर चले गए हैं। इसका कारण नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (नीट) की पीजी काउंसलिंग का समय पर आयोजित नहीं होना है। डॉक्टरों की इस एक दिवसीय हड़ताल से स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हुई हैं।

junior doctors हड़ताल पर

जूनियर डॉक्टर junior doctors एसोसिएशन (जूडा) के अध्यक्ष डॉ. अरविंद मीना ने कहा कि आज हमीदिया अस्पताल में जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर हैं। इस दौरान हमारे जूनियर डॉक्टर ओपीडी और ऑपरेशन थिएटर में सेवाएं नहीं देंगे। वास्तव में यह हड़ताल नीट पीजी काउंसलिंग में हो रही देरी के कारण से की जा रही है। क्योंकि नीट पीजी काउंसलिंग समय पर नहीं होने के कारण से पीजी छात्रों की कमी हो रही है।

डॉ. मीना ने कहा कि हम सभी को दबाव में काम करना पड़ रहा है। इसलिए विरोध स्वरूप देशभर में जूनियर डॉक्टर junior doctors एक दिवसीय हड़ताल पर हैं। इसी के समर्थन में राजधानी समेत प्रदेश के समस्त जूडा junior doctors आज हड़ताल पर गए हैं। इस हड़ताल के दौरान बाकी डॉक्टर ओपीडी में मौजूद रहेंगे, सिर्फ जूनियर junior doctors और सीनियर रेसिडेंट डॉक्टर ही ओपीडी सर्विस में नहीं आएंगे, बाकी सभी जगह वार्ड और इमरजेंसी में काम पर जाएंगे।

देश की राजधानी दिल्ली में हो रही सोमवार की हड़ताल को भोपाल के जूडा junior doctors ने भी अपना समर्थन दिया है। हालांकि बताया जा रहा है कि इस बीच आवश्यक चिकित्सकीय सेवाएं यथावत संचालित होती रहेंगी। इमरजेंसी सेवाओं में जूडा काम करता रहेगा।

बिसाहूलाल पर भड़के Cm Shivraj, दी चेतावनी बोले मंत्री मर्यादा में रहें

उल्लेखनीय है कि दिल्ली के साथ-साथ मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, गुजरात एवं अन्य ने आज ओपीडी में मरीजों का इलाज नहीं करने का निर्णय लिया है। इसका असर सुबह से ही आज देशभर में दिखाई दे रहा है। नीट पीजी की काउंसलिंग में देरी की वजह से पूरे देश मे 10 हजार से ज्यादा रेजिडेंट डॉक्टर प्रोटेस्ट कर रहे हैं। जिन्हें मई में ज्वाइन करना था और अब दिसंबर आ गया है, जूनियर डॉक्टर्स का कहना है कि यदि दिसंबर में तारीख दी जाती है तो जनवरी में इसमें सुनवाई होगी। ऐसे में ये पता नहीं कितना समय अभी लगेगा, इससे साल बर्बाद हो रहा है । रेजिडेंट डॉक्टर पर इसका बोझ बढ़ रहा है क्योंकि नए लोग आ नहीं रहे हैं।

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button