इंदौरः कोरोना की तीसरी लहर की तैयारी, 41 ऑक्सीजन प्लांट हो जायेंगे शुरू

इंदौर, 21 जुलाई । आशंकित कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर ऑक्सीजन उत्पादन के क्षेत्र में इंदौर जिला आत्मनिर्भरता की ओर तेजी से आगे बढ़ रहा है। जिले में 41 अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का कार्य तेजी से जारी है। इसमें से 15 अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का कार्य पूरा हो गया है। शेष अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का कार्य अगले माह तक पूरा हो जायेगा। सभी 41 ऑक्सीजन प्लांट शुरू हो जाने से जिले में मरीजों के लिये पर्याप्त ऑक्सीजन उपलब्ध रहेगा।

यह जानकारी बुधवार को इंदौर के अस्पतालों में लगाये जा रहे ऑक्सीजन प्लांट की प्रगति की समीक्षा के लिये गठित समिति द्वारा यहां निरीक्षण के दौरान दी गई। समिति के अध्यक्ष मधु वर्मा, सदस्य डॉ. निशांत खरे, समिति के सदस्य सचिव तथा अपर कलेक्टर डॉ. अभय बेड़ेकर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीएस सैत्या ने विभिन्न अस्पतालों का भ्रमण कर ऑक्सीजन प्लांट लगाने की कार्य की मौका मुआयना कर समीक्षा की।

ज्ञात रहे कि कलेक्टर मनीष सिंह ने अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने के कार्य को द्रुतगति तथा गुणवत्ता के साथ निर्धारित समय-सीमा में पूरा करने के लिये समिति का गठन किया है। समिति ने बुधवार को अपने भ्रमण की शुरुआत एमटीएच अस्पताल से की। इस अवसर पर बताया गया कि यहां ऑक्सीजन प्लांट लगाने का कार्य पूरा हो गया है।

इसके बाद समिति ने एसएनजी, एसएमएस सिनर्जी तथा इंडेक्स अस्पताल पहुंचकर ऑक्सीजन प्लांट लगाने के कार्य की समीक्षा की। इस अवसर पर बताया गया कि एसएनजी अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो गया है।

इसी तरह एसएमएस सिनर्जी अस्पताल के भ्रमण के दौरान बताया गया कि यहां भी प्लांट स्थापित हो गया है, प्लांट लगने से मरीजों के लिये पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध रहेगा। इंडेक्स अस्पताल के भ्रमण के दौरान बताया गया कि यहां प्लांट लगाने का कार्य पूरा हो गया है।

इस अवसर पर बताया गया कि इंदौर जिले में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का कार्य तेज गति से चल रहा है। जिले में 52 करोड़ रुपये की लागत से 41 ऑक्सीजन प्लांट लगाये जा रहे हैं। इनमें से 15 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो गये हैं। शेष 26 ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना का कार्य आगामी 15 अगस्त तक पूरा हो जायेगा। समिति के अध्यक्ष मधु वर्मा ने निर्देश दिये कि सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट लगाने का कार्य हरहाल में उक्त अवधि तक पूरा कर लिया जाए।

उन्होंने बताया कि सभी प्लांट शुरू हो जाने से जिले में पर्याप्त ऑक्सीजन की उपलब्धता रहेगी। जरूरत पड़ने पर निजी क्षेत्र के अनेक उद्योगिक संस्थानों से भी पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिलेगी। जिले में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं आने दी जायेगी।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button